लखनऊ/देहरादून: देवभूमि उत्‍तराखंड में 12 मल्‍टी स्‍टेट कंपनियां ऐसी हैं जिनसे पैसे का लेनदेन करने खतरे से खाली नहीं हैं. ये कंपनियां उत्‍तराखंड में अनधिकृत रूप से काम कर रहीं हैं. ऐसे में अब अनधिकृत रूप से आर्थिक गतिविधियां करनी कंपनियों के खिलाफ एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) त्वरित कार्रवाई करेगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गैरकानूनी ढंग से धन का लेनदेन करने वालों की सूचना सीधे एसटीएफ को देगी. Also Read - Mahakumbh in Haridwar: हरिद्वार में सोमवती अमावस्‍या पर महाकुंभ का दूसरा शाही स्‍नान, साधु-संत, आम लोग लगा रहे पवित्र डुबकी

Also Read - कोरोना संकट का असर, हरियाणा रोडवेज की बसों के उत्तराखंड में प्रवेश करने पर रोक

इसको लेकर उत्‍तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में सचिवालय में स्टेट लेवल कोआपरेटिव कमेटी की बैठक हुई. इसमें मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि धोखाधड़ी करके लोगों का धन हड़पने वालों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए. साइबर क्राइम सेल को भी इन मामलों में तत्परता दिखानी चाहिए. बता दें कि उत्‍तराखंड सरकार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लिस्‍ट सौंपी हैं, इसमें अनधिकृत रूप से कार्य कर रही कंपनियों का पूरा ब्‍यौरा दिया गया है. Also Read - RBI Announcement: पेमेंट एप से अब ऑनलाइन भेज पाएंगे 2 लाख रुपये

शिया मुसलमानों का संगठन ‘आरएसएस’ लोकसभा चुनाव में देगा भाजपा का साथ

इन कंपनियों से रहें सावधान

रिर्जव बैंक ऑफ इंडिया के मुताबिक, उत्तराखंड में 12 मल्टी स्टेट कंपनियां अनधिकृत रूप से कार्य कर रही है. इसमें ये कंपनियां शामिल हैं:-

1. उत्तराखण्ड ग्रामीण मुस्लिम फण्ड ट्रस्ट

2. आराध्या कंज्यूमर सेल्स रिलायंस कोआपरेटिव बैंक

3. जनशक्ति मल्टी स्टेट मल्टी परपज कोऑपरेटिव सोसाइटी

4. धेनु एग्रो प्रोड्यूसर कंपनी

5. एवरग्रीन एग्रो मल्टी स्टेट मल्टी परपज कोआप सोसाइटी

6. यूनाइटेड एग्रो लाइफ इंडिया लिमिटेड

7. क्वालिटी फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड

8. ग्लोबल ग्रामर सेल्स प्राइवेट लिमिटेड

9. इजी गोल्ड स्टोर

10. ग्लोबलटेक फाइनान्स

11. सोशल म्यूच्यूअल बेनिफिट कंपनी लिमिटेड

12. ताज इंटरनेशनल रियल टेक