नई दिल्‍ली: कोरोना महामारी के चलते लॉकडॉउन में शहरों में परेशानियों से जूझ रहे लाखों प्रवासियों की उनके घर लौटने की दर्द भरी हजारों कहानियां सामने आई हैं. लेकिन इस बीच कई ऐसे लोग भी सामने आए, जिन्‍होंने मानवीय संवेदना दिखाते हुए अपने पैसों से प्रवासी कामगारों को उनके घरों तक पहुंचाने का काम किया है. ऐसा ही कुछ किया नोएडा की 12 साल की इस बेटी ने. निहारिका दि्वेदी नाम की इस लड़की ने अपने बचत के पैसों से तीन प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्‍य झारखंड हवाई रूट के जरिए  फ्लाइट से भेजने का इंतजाम किया है.Also Read - Private Industrial Park in UP: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बनेंगे प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क, बढ़ेगा निर्यात कारोबार

कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में फंसे श्रमिकों के लिए निहारिका किसी देवदूत की तरह बनकर सामने आई है. उसने अपनी बचत के 48000 रुपए से हवाई टिकट खरीद कर प्रवासी मजदूरों को फ्लाइट् से झारखंड भेजने का इंतजाम किया है. निहारिका ने कहा, समाज ने हमें बहुत दिया है और यह हमारी जिम्‍मेदारी है कि ऐसे संकट में हम इसे वापस करें. Also Read - UP: 'चाचा' से शादी करने के बाद सुरक्षा मांगने पहुंची छात्रा का पुलिस स्‍टेशन के सामने हुआ मर्डर, अब पुलिसकर्मियों की जांच

Also Read - Dhanbad Judge Murder Case: जज उत्‍तम कुमार की हत्‍या का राज ऐसे खुला, अरेस्‍ट दोनों आरोपियों ने गुनाह कबूला

बता दें कि दिल्‍ली के एक किसान ने अपने यहां काम कर रहे श्रमिकों को हवाई मार्ग के जरिए झारखंड पहुंचाया था. वहीं फिल्‍म कलाकार सोनू सूद ने भी बहुत से प्रवासी लोगों को उनके घरों में पहुंचाने के अच्‍छे काम के लिए सुर्खियों में हैं.