कानपुरः उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक दुष्कर्म पीड़िता की मां पर जानलेवा हमला करने के फरार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. हल्की मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने दोनों आरोपियों परवेज और मोहम्मद अबिद के पैरों में गोली मार दी. दोनों को शहर के रमादेवी इलाके में स्थित कांशी राम अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने बताया कि चकेरी पुलिस थाना में नौ जनवरी को दर्ज एफआईआर में चार अन्य के साथ इन दोनों के नाम भी शामिल थे. Also Read - दो ढाबा मालिकों ने मुंबई की इवेंट मेनेजर से दिल्ली में किया रेप, फेसबुक पर हुई थी दोस्ती

दुष्कर्म पीड़िता की मां की अस्पताल में सात दिन तक इलाज कराने के बाद शुक्रवार सुबह मौत हो गई. दुष्कर्म के पांच में से दो आरोपियों ने उन पर जानलेवा हमला कर दिया था. आरोपी कथित तौर पर महिला और उसकी बेटी को दुष्कर्म मामले में बयान वापस लेने के लिए मजबूर कर रहे थे. महिला द्वारा मना करने पर आरोपियों ने 10 जनवरी को महिला के कानपुर में स्थित घर के बाहर लाठी, पत्थर से बेरहमी से पिटाई की. Also Read - AMU के जेएन मेडिकल कॉलेज में जटिल ऑपरेशन के बाद मरीज के पेट से निकाला 24 किलो का ट्यूमर

कानपुर में 2018 में एक 13 वर्षीय नाबालिग लड़की से पांच लोगों ने कथित तौर पर छेड़छाड़ की थी. पुलिस ने उन्हें 2018 में गिरफ्तार किया था, हालांकि सभी को 2019 में एक स्थानीय कोर्ट ने जमानत दे दी थी. तब से ही आरोपियों ने कथित तौर पर पीड़िता को अपना बयान वापस लेने के लिए कई बार मजबूर किया था, लेकिन उसने ऐसा करने से मना कर दिया. Also Read - UP Wedding Program New Guidelines: यूपी सरकार का बड़ा फैसला, शादी में अतिथियों की संख्या होगी सीमित, अब इतने ही लोग हो सकेंगे शामिल

उन्नाव रेपकांड के दोषी MLA कुलदीप सिंह सेंगर की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने CBI से मांगा जवाब

मृतका के पति ने 10 जनवरी की घटना के बारे में कहा, “मेरी बेटी और पत्नी दांतों के डॉक्टर के पास गई थीं. इसी दौरान आरोपियों ने उन पर घातक हमला किया. इन लोगों के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत एक मामला चल रहा है. हमले के दौरान मैं और मेरा बेटा दुकान पर थे.” वहीं लड़की के भाई ने कहा, “करीब 10 लोग थे जो हमारे घर में घुस गए और मेरी बहन को अपार्टमेंट के बाहर खींच लिया. इन लोगों ने उन पर बेरहमी से हमला किया.”

उसने आगे बताया कि हमलावरों ने शिकायत वापस नहीं लेने पर उसकी मां-बहन को मारने की धमकी दी थी. वहीं उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह ने कहा कि पुलिस मामले की जांच करेगी. उन्होंने कहा, “हम मामले की जांच कर रहे हैं और आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की कोशिश करेंगे.”