लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि बीते एक मार्च से अब तक करीब 20 लाख प्रवासी श्रमिक (Migrant Workers) उत्तर प्रदेश में वापस आए हैं, और ये लोग उत्तर प्रदेश की संपदा हैं. इनके बल पर अब प्रदेश का विकास और तेज होगा. अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने यहां गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि टीम 11 के साथ समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन की समीक्षा की, और इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में अब तक 20 लाख मजदूर आ चुके हैं, और जब ये लोग आर्थिक रूप से मजबूत होंगे तब प्रदेश अपने आप विकसित होने लगेगा. इसके लिए उप्र सरकार हर संभव प्रयास कर रही है.Also Read - प्रधानमंत्री मोदी के दौरे से पहले वाराणसी पहुंचे मुख्यमंत्री योगी, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना का किया निरीक्षण

अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया प्रदेश में एक्टिव केस से अधिक ठीक होकर घर जाने वालों की संख्या हैं. वर्तमान में 2130 केस ही एक्टिव हैं, जबकि 3099 लोग ठीक होकर घर चले गए हैं. फिर भी हमें सतर्क व सुरक्षित रहते हुए बचाव करना है. अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि जनपद स्तर पर हर व्यक्ति को चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाई जाए. हर व्यक्ति को जनपद स्तर पर ही उसके इलाज के अनुसार एल-1, एल-2 और एल-3 अस्पतालों की सुविधा उपलब्ध कराई जाए. Also Read - अखिलेश यादव ने कहा- योगी आदित्यनाथ 24 घंटे काम करते हैं, फिर भी महंगाई-बेरोजगारी बढ़ी, Dial 100 तो...

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों से आने वाले सभी लोगों और इन लोगों के परिजनों से अपील की है कि ये लोग खुद आगे आकर अपने स्वास्थ्य के विषय में जानकारी दें, जिससे उनका इलाज सही समय पर शुरू किया जा सके. मुख्यमंयत्री ने स्वास्थ्य विभाग की टेस्टिंग क्षमता को और बढ़ाने का निर्देश देते हुए इसे प्रतिदिन 10 हजार सैंपल टेस्ट करने को कहा है. हालांकि विभाग द्वारा लगभग सात हजार टेस्ट प्रतिदिन किया जा रहा है.
उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर उत्तर प्रदेश के लिए लगातार श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि अबतक गुजरात से 355, महाराष्ट्र से 181, पंजाब से 144, राजस्थान से 28, दिल्ली से 36, कर्नाटक से 33 ट्रेनों सहित कुल 1154 ट्रेनों की व्यवस्था की गई. इनमें से 841 ट्रेनें आ गई हैं, जबकि 313 आ रही हैं या फिर एक दो दिनों में पहुंचेंगी. Also Read - फिर शुरू हुआ पाबंदियों का दौर! ओमिक्रोन और डेल्टा वेरिएंट के खतरों को देखते हुए जानें कहां-कहां हुई सख्ती

उन्होंने बताया कि इन ट्रेनों के माध्यम से अबतक उत्तर प्रदेश में 15 लाख 27 हजार लोगों ने वापसी की है. अब दूसरे चरण में हरियाणा से 3982 बसों से 1 लाख 35 हजार, राजस्थान से 355 बसों से 13224 और मध्यप्रदेश से 1350 बसों से 49 हजार लोगों को लाया गया है. उन्होंने बताया कि एक मार्च से अबतक 20 लाख लोग उप्र में आए हैं. अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि दिल्ली से भी हर रोज 11 ट्रेनों को चलाया जा रहा है, और जिसे भी दिल्ली से आना है वह स्थानीय प्रशासन से संपर्क करे.