गोरखपुरः भारत में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इस वायरस की वजह से देश में अब तक 870 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. हर कोई कोरोना के साए में है और इससे बचने के उपाए तलाश रहा है. उत्तर प्रदेश में भी लॉकडाउन के बावजूद कोरोना वायरस थमने का नाम नहीं ले रहा है इस बीच राज्य से एक राहत देने वाली और चेहरे पर मुस्कान लाने वाली खबर सामने आई है. Also Read - पीएम नरेंद्र मोदी ने Corona पर 46 जिलाधिकारियों से की बात, कोरोना के खिलाफ सुझाए 3 उपाय

उत्तर प्रदेश में दो सप्ताह पहले कोरोनोवायरस पॉजिटिव आया तीन महीने का एक बच्चा अब ठीक होकर अपने घर चला गया है. बच्चे और उसकी मां दोनों का गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा था. यह छोटा सा बच्चा बस्ती के उस कोरोना रोगी का रिश्तेदार है जिसकी कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी, यह कोविड-19 से बस्ती की पहली मौत थी. Also Read - Covid 19: मोबाइल कंपनियों का बड़ा फैसला, दो महीने के लिए बढ़ाई स्मार्टफोन की वारंटी

यह 30 वर्षीय मां अपने बच्चे के साथ 12 अप्रैल को बीआरडी मेडिकल कॉलेज में पहुंची थी, इन दोनों का दो बार परीक्षण किया गया था. जिसमें मां का परीक्षण निगेटिव और बच्चे का परीक्षण पॉजिटिव आया था. Also Read - COVID 19 Viral News: लॉकडाउन में घर से बाहर निकला रसगुल्ला खरीदने, पुलिस ने कुछ यूं लगाई क्लास

बीआरडी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने कहा, “डॉक्टरों के लिए बड़ी चुनौती मां को संक्रमण से बचाने की थी. शिशु को आइसोलेशन वार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया था और वहां उसकी मां ने सभी जरूरी सावधानी बरतीं.”

उन्होंने आगे कहा, “बच्चे को बुखार के अलावा और कोई समस्या नहीं थी, जिसके लिए उसे शुरू में पेरासिटामोल दिया गया था. मां के दूध के सेवन से बढ़ी हुई आत्म-प्रतिरक्षा के कारण वह बिना किसी दवा के ठीक हो गया.”

मां और बच्चे दोनों के शनिवार और रविवार को किए गए परीक्षण निगेटिव आए थे. कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई जीतने के बाद इस मां-बेटे की जोड़ी को गोरखपुर के जिला मजिस्ट्रेट विजयेंद्र पांडियन, आयुक्त जयंत नार्लीकर और बीआरडी मेडिकल स्टाफ ने स्टैंडिंग ओवेशन दिया.