मथुरा: नोएडा से आगरा के मध्य यमुना एक्सप्रेस-वे पर सर्दियों के दौरान अब कोहरा वाहनों की रफ़्तार को बाधित नहीं कर सकेगा. कोहरे के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं की रोकथाम व विजिबिलटी को बढ़ाने के लिए यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी ने 165 किमी लंबे इस एक्सप्रेस-वे पर प्रत्येक 400 मीटर की दूरी पर फ़ॉग लाइटें लगवाई हैं. चार सौ फॉग लाइटों के साथ ही यहां यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने के लिए अन्य उपाय भी किए जा रहे हैं.

और भी कई उपाय किए हैं
इस बाबत जानकारी अथॉरिटी के प्रतिनिधि मेजर मनीष ने मथुरा के जिला प्रशासन को दी है. उन्होंने बताया, ‘यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी ने शीत ऋतु के दौरान कोहरे की वजह से होने वाले सड़क हादसों पर नियंत्रण के लिए कई इंतजाम किए हैं. इसी कड़ी में 165 किमी लंबे मार्ग पर हर 400 मीटर की दूरी पर एक फ़ॉग लाइट लगाई गई है. पूरे यमुना-एक्सप्रेस वे पर कुल 400 से अधिक लाइटें लगाई गई हैं ताकि घने कोहरे के बीच वाहनों की दृश्यता बनी रहे.’ इन फॉग लाइटों के लगने से कुहरे के दौरान लो-विजिबिलटी की समस्या से निजात मिल सकेगी जो कि कुहरे के दौरान हादसों की एक मुख्य वजह है.

एयर टिकट लेने से पहले हो जाएं सचेत, जेट एयरवेज के पास नहीं हैं पायलट, 14 उड़ानें रद्द

गत वर्ष 82 से अधिक हादसों का गवाह
मेजर मनीष बताते हैं, माइलस्टोन अच्छी तरह दिख सके, इसके लिए विशेष प्रकार से चमकने वाले शाइनिंग बोर्ड लगवाए जा रहे हैं जिससे वाहन चालक आवश्यकता होने पर अपनी लोकेशन आसानी से बता सके. मेजर ने बताया, ‘गत वर्ष सर्दियों में 82 से ज्यादा बड़े हादसे हुए थे. इस बार एक्सप्रेसवे में हादसों से बचाव के लिए अन्य उपाय भी किए जा रहे हैं. हर टोल पर वाहन चालकों को स्पीड पर नियंत्रण रखने के लिए जागरूक करने के उद्देश्य से पर्चे बांटे जा रहे हैं. एक्सप्रेस-वे पर सेफ्टी लाइन (सफेद पट्टी) को और गाढ़ा बनाया जा रहा है जिससे वह दूर से ही नजर आ जाए.’ यमुना एक्सप्रेस-वे पर अधिकतम स्पीड लिमिट सौ है. बीते साल 82 से अधिक बड़े हादसे इस एक्सप्रेस-वे पर हुए थे जिनसे सबक लेते हुए अथॉरिटी ने सुरक्षा उपायों को पुख्ता करने के लिए कमर कस रखी है.

दिल्ली-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग से सूचना नहीं !
उन्होंने बताया, ‘इन ऐहतियाती तैयारियों के साथ सात नए अस्पतालों से, दुर्घटना होने पर घायलों को चिकित्सकीय मदद दिलाने के लिए अनुबंध किया गया है. इनमें नोएडा का एक, मथुरा तथा आगरा के तीन-तीन अस्पताल शामिल हैं.’ दूसरी ओर, जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने बताया, ‘दिल्ली-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग (संख्या-19) के अधिकारियों ने अभी तक कोहरे के दौरान सड़क दुर्घटनाओं पर रोक के लिए की गई तैयारियों की कोई जानकारी, इस संबंध में बुलाई गई बैठक में नहीं दी है.’जबकि इस नेशनल हाई-वे पर भी कुहरे के दौरान दुर्घटनाओं की संख्या में खासा इजाफा हो जाता है. (इनपुट एजेंसी)

भोपाल गैस त्रासदी: पीड़ितों के जख्म अभी भी हरे, 34 साल बाद भी न्याय के लिए भटक रहे लोग