600 साल में पहली बार इस शहर में रावण के साथ नहीं जलेंगे मेघनाद और कुम्भकरण, जानिए

लखनऊ की ऐशबाग रामलीला कमिटी की तरफ से हर साल रामलीला और रावण दहन का भव्य कार्यक्रम होता था, लेकिन 600 साल में पहली बार इस साल रावण के पुतले का भी बस यूं ही दहन किया जाएगा, लेकिन उसके साथ उनके भाई कुंभकरण और मेघनाद नही जलाए जाएंगे.

By India.com Hindi News Desk | Published:Sat, October 24, 2020 4:51pm

Lucknow: लगभग 600 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा होगा कि पुरानी लखनऊ की ऐशबाग रामलीला में रावण दहन के कार्यक्रम में रावण के साथ कुंभकर्ण और मेघनाद नहीं जलाए जाएंगे. इसके अलावा शायद यह पहला मौका रहा है जब बिना दर्शकों के रामलीला हुई और अब बिना दर्शकों के ही रावण दहन होगा. Also Read - 600 साल में पहली बार इस शहर में रावण के साथ नहीं जलेंगे मेघनाद और कुम्भकरण, जानिए

बता दें कि लखनऊ की ऐशबाग रामलीला कमेटी पिछले 12 दिनों से ऑनलाइन रामलीला का मंचन कर रही है, जिसमें बहुत गिने-चुने लोग ही हिस्सा ले रहे हैं. कोरोना के संक्रमण काल में अब बारी रावण दहन की है. Also Read - Bank Holiday: आज से तीन दिन बंद रहेंगे बैंक, ATM मिले खाली तो टॉलफ्री नंबर पर तुरंत बताएं

देशभर में रावण दहन किया जाएगा, लखनऊ की ऐशबाग रामलीला में भी शाम 7:30 बजे रावण दहन का कार्यक्रम होगा. लेकिन इस बार कार्यक्रम में महज 200 चुनिंदा लोग ही हिस्सा लेंगे. बाहर से किसी भी व्यक्ति को आने की परमिशन नहीं होगी. जिन्हें निमंत्रण दिया जाएगा उन्हें ही रावण दहन कार्यक्रम में शामिल होने की इजाजत मिलेगी. Also Read - 'सीता' डिफेंस सर्विस की तैयारी में, 'राम' करते बैंक में काम, 'शूर्पणखा' प्राइवेट कंपनी में...

रामलीला समिति के सचिव ने बताया, क्योंकि 200 लोगों के ही कार्यक्रम में प्रतिभाग करने की इजाजत सरकार की तरफ से है. इसलिए कोरोना के प्रोटोकॉल को पालन कराते हुए हम लोग रावण दहन का कार्यक्रम करेंगे. हालांकि, इस बार बहुत कुछ बदला रहेगा.

उन्होने बताया कि इस बार केवल रावण का पुतला दहन किया जाएगा. यानी रावण के साथ जलने वाले मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले होंगे ही नहीं. मतलब केवल एक रावण के पुतले को ही जलाया जाएगा. कमेटी के सचिव ने बताया कि पिछली बार हम लोगों ने 121 फीट के पुतले जलाए थे, लेकिन इस बार मात्र 71 फीट का पुतला बनाया गया है.

लखनऊ की ऐशबाग रामलीला में रावण के पुतले को बनाने का भी विशेष आयोजन होता था. प्लाईवुड की लकड़ियों से इस पुतले को बनाया जाता था. बाहर से कारीगर आते थे लेकिन इस बार औपचारिकताओं को निभाते हुए बांस की खप्पचियों पर पुतला बनाया जा रहा है और महज औपचारिकताएं ही की जा रही हैं. पुतला दहन के दौरान आतिशबाजी ज़रूर होगी पर कोरोना के संक्रमण को देखते हुए ज्यादा लोगों की भीड़ नहीं जुटने दी जाएगी. हालांकि, पुतले दहन का कार्यक्रम भी समिति के माध्यम से लाइव प्रसारण किया जाएगा.

Published:Sat, October 24, 2020 4:51pm

Tags

aishbagh ramleela Dusshera 2020 lucknow ramleela Ramleela ravan dahanramleela uttar pradesh news

States News

Lucknow News Today: लखनऊ में एक दिसंबर तक लागू रहेगी धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा, उल्लंघन पर होगी कार्रवाई
School Reopening News: छात्र ने स्कूल खोलने को लेकर योगी आदित्यनाथ को दे दी धमकी, फिर..
Nandababa Temple Namaz Case: मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने वाले दोनों आरोपियों की जमानत याचिकाएं कोर्ट ने की खारिज
कूड़ा फेंकने के मामूली विवाद में सिपाही, उसकी बहन व मां की धारदार हथियार से हत्या, जांच में जुटी पुलिस
यूपी के इन 13 जिलों में बनने जा रहे हैं मेडिकल कॉलेज, सीएम योगी ने 15 दिसंबर के पहले निर्माण कार्य शुरू करने के दिए निर्देश

Latest News

IND vs AUS, 1st ODI: आकाश चोपड़ा ने ऑलराउंडर्स के विभाग में भारत को पाया कमजोर, बोले- हार्दिक के पास...
Lakshmi Vilas Bank News: आज के बाद नहीं होगी लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर की ट्रेडिंग, शेयर धारकों को होगा भारी नुकसान
Dev Deepawali 2020 Important Things: देव दिवाली पर इन बातों का रखें खास ख्याल, घर में आएगी खुशहाली
Bihar Police Constable Recruitment Exam 2020 Date: CSBC ने जारी किया Bihar Police Constable एग्जाम का डेट, इस दिन से शुरू होगी परीक्षा
Aus vs Ind, 1st ODI, Preview: ऑस्ट्रेलिया में भारत के 'संकटमोचन' रोहित शर्मा के बिना पहला वनडे खेलने उतरेगी टीम इंडिया

Explore more