अलीगढ़: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में आंदोलनरत छात्रों का धरना प्रशासन के आश्वासन के बाद समाप्त हो गया है. ये छात्र पिछले 6 दिन से धरने पर बैठे हुए थे. इनकी मांग थी कि निर्दोष छात्रों को बिना वजह न सताया जाए. बता दें कि गत 12 फरवरी को विश्वविद्यालय के दो छात्र गुटों में विवाद हो गया था जिसके बाद कुछ छात्रों पर एफआईआर दर्ज कराई गई थी. एएमयू प्रशासन, जिला प्रशासन और छात्रसंघ के नेताओं के बीच बातचीत के बाद धरना समाप्त हो गया. Also Read - अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कैंपस में छात्र की गोली मारकर हत्या, मामले की जांच में जुटी पुलिस

Also Read - AMU: कुलपति ने 22 मार्च तक स्थगित की कक्षाएं, 31 मार्च तक नहीं होगा कोई बड़ा प्रोग्राम

एएमयू ने कश्मीरी छात्रों के लिए जारी की एडवाइजरी, आपत्तिजनक गतिविधि कतई बर्दाश्त नहीं होगी Also Read - देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम का पुलिस रिमांड बढ़ा, तीन दिन तक और होगी पूछताछ

एएमयू कुलपति के आवास पर सोमवार को देर रात हुई बैठक में जिला प्रशासन के अधिकारियों और प्रदर्शनकारी छात्रों के बीच बातचीत के बाद धरना समाप्त हो गया. 12 फरवरी को विवि में दो छात्र गुटों में संघर्ष के बाद छात्रों पर मामला दर्ज किया गया था जिसके बाद से छात्र आंदोलनरत थे. छात्रों का यह आंदोलन सोमवार को और उग्र हो गया जब विवि परिसर से एक छात्र को गिरफ्तार किया गया.

सेना ने कहा-100 घंटे में मार गिराए जैश के कमांडर, मेन स्ट्रीम में लौटें बंदूक उठा चुके युवा नहीं तो मारे जाएंगे

एएमयू के प्रवक्ता प्रो शाफे किदवई ने बताया ‘ प्रदर्शन कर रहे छात्रों और जिला प्रशासन के अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद छात्रों ने अपना धरना समाप्त कर दिया. प्रशासन ने छात्रों को आश्वासन दिया कि किसी भी छात्र के खिलाफ बदले की कार्यवाही नहीं की जाएगी. पहले सभी मामलों की कानूनी जांच की जाएगी. जिलाधिकारी चन्द्र भूषण सिंह ने पत्रकारों को बताया ‘हमने आश्वासन दिया है कि किसी भी निर्दोष छात्र का उत्पीड़न नहीं किया जायेगा. जिन छात्रों का नाम एफआईआर में है उन पर कोई भी कार्यवाही पूरी जांच के बाद ही होगी.’ (इनपुट एजेंसी)

कश्मीरी छात्रों ने की पुलवामा हमले की निंदा, साथियों से कहा- किसी के बहकावे में न आएं