चित्रकूट: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को चित्रकूट पहुंचे. इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना खत्म होने पर हर गांव के लोगों को कारसेवा कराएंगे. उन्होंने कहा, “भाजपा सरकार में 500 साल के बाद अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है. कोरोना नहीं होता तो हर गांव से एक व्यक्ति अयोध्या जरूर पहुंचता. खत्म होने पर हर गांव से लोगों को कारसेवा कराएंगे. हमने बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे दिया. बहुत जल्द चित्रकूट, बांदा में घर-घर तक पेयजल पहुंचाएंगे. डिफेंस कोरीडोर की योजना पर काम होगा.” Also Read - Ramayana Cruise Sewa: ऐसी होगी अयोध्या में सरयू नदी पर रामायण क्रूज सेवा, जानें डिटेल्स

उन्होंने कहा, “रामायण काल की अति प्राचीन परंपरा के वाहक दो ऋषियों की जयंती है. एक महर्षि वाल्मीकि जी, जिन्होंने भगवान राम से साक्षात्कार कराया. दूसरे राष्ट्रऋषि नानाजी, जिन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना दी. हजारों साल पहले भगवान राम प्रयागराज आए और महर्षि वाल्मीकि जी से मिलकर चित्रकूट गए थे. मैं स्वयं इस धरती का दर्शन करना चाहता था. महर्षि वाल्मीकि के दर्शन को पूज्य तुलसीदास जी ने रामकथा के रूप में घर घर पहुंचाई. भगवान श्रीराम की तपोस्थली चित्रकूट आज नए कदम बढ़ा रही है. जहां किसी प्रकार का कोई भेद भाव नहीं है, वही राम राज्य है.” Also Read - कल मुंबई जाएंगे यूपी CM योगी आदित्यनाथ, उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र से ‘जबरन’ किसी को कारोबार नहीं ले जाने देंगे

योगी ने कश्मीर का जिक्र करते हुए कहा कि विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने के दौरान पाकिस्तानी सेना कांप रही थी. योगी ने कहा कि दुश्मन को दांत खट्टे करने वाली तोपें भी चित्रकूट में बनेंगी. तुलसी,वाल्मीकि और राम की तपस्थली के साथ ये जिला दुश्मन के दांत भी खट्टे करने में अपनी भूमिका अदा करेगा. Also Read - गुजरात से BJP के राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का कोरोना संक्रमण से निधन, PM मोदी ने जताई संवेदना

योगी आदित्यनाथ ने कहा, “महार्षि वाल्मीकि हम सब के पूज्य हैं. वाल्मीकि जी ने ही हम सबका भगवान राम से साक्षात्कार कराया . वाल्मीकि रामायण लौकिक भाषा का महाकाव्य है. इसीलिए वाल्मीकि जी आदिकवि कहलाए . दुनिया मे राम को पहुंचाने का श्रेय महर्षि वाल्मीकि को जाता है.”