आगरा: परिवार में पत्नी, दो बच्चे एक बीमार पिता हैं. कंधों पर इनकी जिम्मेदारी थी. इसके बाद भी आगरा के जाबांज ने देश की परवाह पहले की. आगरा के देवेंद्र देश के लिए शहीद हो गए. दुश्मन बने आतंकियों को तलाशते हुए उन्होंने देश के लिए सीने पर गोली खा ली. जवान के शहीद होने की खबर पर घर में कोहराम मच गया. पत्नी-बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है. वहीं, बेटे की शहादत की खबर जानने के बाद पिता ने कहा कि बेटा दुनिया में नहीं इसका दुःख है, लेकिन उसने मां सामान देश के लिए प्राण न्योछावर किए इसका उन्हें गर्व और हमेशा रहेगा. Also Read - Driving License Latest Update: अब चुटकियों में बन जाएगा ड्राइविंग लाइसेंस, बदल गए हैं नियम, जानिए

Also Read - Jammu Kashmir: पाकिस्तान की फिर एक बड़ी आतंकी साजिश नाकाम, भारतीय सेना को मिली सुरंग

छत्तीसगढ़: IED ब्लास्ट में दो जवान शहीद, 5 घायल Also Read - शर्मनाक: नशे में धुत बड़े भाई ने शादीशुदा बहन के साथ किया Rape, वीडियो भी बनाया

हीरानगर में थे तैनात, घुसपैठियों को कर रहे थे सर्च

जम्मू के कठुआ जिले के हीरानगर में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर देश की रक्षा में तैनात जवान देवेंद्र शहीद हो गए. देवेंद्र सीमा सुरक्षा बल की 173वीं बटालियन का हिस्सा थे और आतंकी घुसपैठ के बाद चल रहे सर्च ऑपरेशन के दौरान गोली लगने से घायल हो गए थे. वह आगरा के थाना सिकंदरा के लखनपुर गांव के रहने वाले थे. उनका परिवार इसी गांव में रहता है. बीते दिन पाकिस्‍तान ने जम्‍मू एवं कश्‍मीर के सांबा सेक्‍टर में संघर्ष विराम का उल्‍लंघन करते हुए गोलीबारी की, बीएसएफ ने भी भारी गोलीबारी करते हुए पाकिस्‍तान रेंजर्स को जवाब दिया. इसी गोलाबारी में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया. जवान की शहादत की खबर आने के बाद पूरे गांव में मातम का माहौल है. देवेंद्र के कंधों पर पत्नी और दो बच्चों के साथ बीमार पिता की भी जिम्मेदारी थी, लेकिन इसके बाद भी उन्होंने अपने देश की परवाह ज्यादा की.

कुलगाम मुठभेड़: एक जवान शहीद, तीन आतंकी भागे और चार स्थानीय नागरिकों की मौत

पिता बोले- बेटे की शहादत पर गर्व

परिवार को बेटे के शहीद होने पर दुख हैं, लेकिन इस बात का गर्व है कि उसने अपने प्राणों को भारत मां के लिए न्यौछावर किए. बीमार पिता ने कहा, कि मुझे दुख है कि मेरा बेटा अब इस दुनिया में नहीं है. वो हमारे साथ नहीं है, लेकिन मुझ सहित पूरे परिवार को इस बात का गर्व है कि उसने देश के लिए अपने प्राणों को हंसते-हंसते न्यौछावर कर दिए.

जम्मू कश्मीर के राजौरी में पाकिस्तानी गोलीबारी में सेना के दो जवान शहीद

कुछ आतंकियों पर थी नजर

बीएसएफ के डीजी ने बताया कि पांच दिन पहले कुछ आतंकी संभवत: सीमा पार कर भारतीय क्षेत्र में घुस आए हैं. करीब पांच आतंकियों को एचएसटीआई इमैजिनिंग के जरिये देखा गया है. आपको बता दें कि इससे पहले पाकिस्‍तान की तरफ से जनवरी में भी गोलीबारी की गई थी, जिसमें 173वीं बटालियन के एक बीएसएफ जवान आर. पी. हंजरी शहीद हो गए थे.