आगरा: आगरा किले के पास एक नहर से बचाए गए तेंदुए ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को इस बाबत जानकारी दी. तेंदुए को किसी तेज रफ़्तार वाहन ने उस समय टक्कर मारी थी जब वह किले के समीप ही सड़क पार कर रहा था और वह घायल हो कर सूखी नहर में जा गिरा. वन अधिकारियों और स्वयं सेवी संगठन के लोगों ने हादसे के शिकार तेंदुए को मंगलवार को वहां से निकाला था. लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका.

कार्बेट टाइगर रिजर्व में रात्रि विश्राम पर बैन, पर्यटकों की बुकिंग रद्द, ये है वजह

रीढ़ की हड्डी में लगी थी गंभीर चोट
किले के पास सोमवार की रात घायल हुए तेंदुए की मौत की जानकारी देते हुए वन्यजीव एसओएस केंद्र के प्रमुख बैजू राज ने बताया कि तेंदुए के शरीर का निचला हिस्सा चोट के चलते लकवाग्रस्त हो गया था. बता दें कि सोमवार को किसी तेज रफ्तार वाहन ने तेंदुए को टक्कर मार दी थी, जिसकी वजह से वह घायल हो गया था. बैजू ने बताया, टक्कर से घायल होने के बाद तेदुआ सड़क के किनारे सूखी नहर में पड़ा था. सूचना पर पहुंची रेस्क्यू टीम ने पहले उसे ट्रैंकुलाइज किया फिर इलाज के लिए बचाव केंद्र लेकर गई. लेकिन तेंदुए की हालत में कोई सुधार नहीं होने के चलते उसके बचने की संभावना बेहद कम हो गई थी. बुधवार देर शाम घायल तेंदुए ने दम तोड़ दिया. एक्सरे रिपोर्ट में तेंदुए के रीढ़ की हड्डी में गहरी चोट पाई गई है.

हरिद्वार में सुबह की सैर पर निकले BHEL में कार्यरत व्यक्ति को हाथी ने मार डाला

स्वयं सेवी संगठन वाइल्डलाइफ एसओएस के केंद्र निदेशक बैजू राज ने बताया कि बृहस्पतिवार को मृत तेंदुए का पोस्टमार्टम करके शव को पशुचिकित्सकों और वन अधिकारियों के समक्ष अग्नि के हवाले कर उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया. आगरा डिवीजन के वन अधिकारी (डीएफओ) मनीष मित्तल ने बताया कि पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है. सीसीटीवी फुटेज के जरिए तेंदुए को मारने वाले वाहन की पहचान की जा रही है. मामले की तफ्तीश जारी है. (इनपुट एजेंसी)

प्रिंटर से छापते थे 500 और 2000 के नोट, असली के बदले देते थे दोगुनी करेंसी, यूपी पुलिस ने ऐसे पकड़ा