लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में राज्‍यसभा चुनाव को लेकर बीएसपी और समाजवादी पार्टी के बीच एक दूसरे पर हमले तेज हो गए हैं. बीएसपी के जब 6 विधायकों ने पार्टी के उम्‍मीदवार के नामांकन के खिलाफ सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव से मिले तो मायावती ने बयान दिया था कि हम सपा को हराने के बीजेपी समेत किसी अन्‍य को समर्थन दें सकते हैं. मायावती के इस बयान को समाजवादी पार्टी ने बसपा और भाजपा पर हमले का बड़े औजार के रूप में प्रयोग कर रही है. सपा ने बीएसपी को भाजपा की
बी टीम कर दिया हैAlso Read - उद्धव ठाकरे बोले- शिवसेना ने BJP के साथ रहकर 25 साल बर्बाद कर दिए, ये मैं अब भी मानता हूं

समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को बीजेपी और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर हमला बोला और कहा कि हम जनता के सामने भाजपा और बसपा का सच उजागर करने में सफल रहे हैं. Also Read - UP Polls 2020: चुनाव से पहले देश के 'सबसे लंबे शख्स' ने अखिलेश यादव की मौजूदगी में थामा सपा का दामन, देखें तस्वीर...

अखिलेश यादव लखनऊ में शनिवार को आचार्य नरेंद्र देव की जयंती पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि हमने निर्दलीय को समर्थन देकर बड़ा मामला जनता के सामने खोल दिया. अखिलेश यादव ने कहा कि हम जनता के सामने बीजेपी और बसपा का सच उजागर करने में सफल रहे हैं. अब तो साबित हो गया है कि बसपा ही भाजपा की बी टीम है. Also Read - विधानसभा चुनाव से पहले CM बिरेन सिंह ने कहा- मैं और मणिपुर के लोग चाहते हैं कि अफ्सफा हट जाए

सपा प्रमुख ने कहा कि जो लोग भाजपा के साथ अंदर से चुपचाप मिले हैं. उनका पदार्फाश होना जरूरी था, इसीलिए सपा ने निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन किया. हमारा मकसद था कि वोट पड़े और जनता जाने कि कौन किससे मिला है.

यूपी के पूर्व सीएम ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि सिर्फ सत्ता में बने रहने के लिए यह कहीं पर भी किसी के गठबंधन कर सकती है. हमने तो यहां निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन किया, लेकिन बाद में उसका पर्चा ही खारिज हो गया है.

अखिलेश ने कहा कि आज के दिन हम सरदार पटेल जी को, आचार्य नरेंद्र देव जी और वाल्मीकि जी को याद कर रहे हैं. लोगों का रोजगार छिन गया है, नौकरी चली गई है और किसान एमएसपी के लिए परेशान है. हम संकल्प ले रहे हैं कि देश का जो डेवलपमेंट छूटा है, उसका विकास करेंगे.