Akhilesh Yadav: राजस्थान के एक मिलिट्री स्कूल में हुई अखिलेश की शुरुआती पढ़ाई; जानें सपा प्रमुख के जीवन का हर पहलू

साल 2012 में चुनाव जीतने के बाद जब समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह की ताजपोशी की तैयारियां चल रही थीं, उसी समय अखिलेश यादव मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए. बाद में चाचा शिवपाल यादव के साथ विवाद मीडिया की सुर्खियों में रहा तो पार्टी दो हिस्सों में बंट गई. पार्टी की अंदरूनी कलह का खामियाजा 2017 के विधानसभा चुनाव में भुगतना पड़ा, लेकिन अखिलेश यादव का कद पार्टी और देश की राजनीति में लगातार बढ़ता गया है.

Updated: January 19, 2022 12:51 PM IST

By Digpal Singh

Uttar Pradesh Assembly Election 2022, Samajwadi Party candidates list, SP candidates list, Akhilesh Yadav, Samajwadi Party, SP, Uttar Pradesh Assembly Elections 2022, UP Assembly Election 2022,UP Assembly Elections 2022, Assembly Elections 2022, Politics, Karhal, Karhal Assembly seat, Politics, UP Polls,
Uttar Pradesh Assembly Election 2022: SP Chief Akhilesh Yadav

Akhilesh Yadav’s biography, Net Worth, Education, Family: अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) में पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं. वह इससे पहले साल 2012 से 2017 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. साल 2012 में जब वह मुख्यमंत्री बने उस समय उनकी उम्र 38 वर्ष थी. उनका नाम उत्तर प्रदेश के इतिहास में अब तक के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री के तौर (Youngest Person to hold CM office) पर दर्ज है. साल 2019 के लोकसभा चुनाव (Loksabha Election 2019) में वह उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) से चुनाव लड़े और 17वीं लोकसभा के लिए चुनकर आए. वह साल 2000 में पहली बार कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीतकर संसद के निचले सदन यानी लोकसभा में पहुंचे थे. उनके पिता मुलायम सिंह (Akhilesh Yadav’s Father Mulayam Singh Yadav) तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और देश के रक्षामंत्री (Defense Minister of India) भी रह चुके हैं.

Also Read:

अखिलेश यादव के बारे में (Akhilesh Yadav biography)

अखिलेश यादव का जन्म 1 जुलाई 1973 को उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सैफई (Saifai, Etawah) में हुआ था. उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी का गठन किया था, जिसके वह लंबे समय तक अध्यक्ष रहे. मुलायम सिंह यादव के बाद साल 2017 में अखिलेश यादव ने पार्टी की कमान अपने हाथ में ली. अखिलेश यादव की मां का नाम माल्ती देवी है. अखिलेश यादव की शादी 24 नवंबर 1999 को हुई थी. उनकी पत्नी डिंपल यादव (Akhilesh Yadav’s Wife Dimple Yadav) भी राजनीति में हैं. साल 2012 में जब अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने तो उन्हें कन्नौज लोकसभा सीट से इस्तीफा देना पड़ा. इस सीट पर पार्टी ने अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को प्रत्याशी बनाया और वह चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंची थी. इसके बाद साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने कन्नौज लोकसभा सीट से जीत दर्ज की. अखिलेश और डिंपल यादव (Akhilesh Yadav’s Family) के तीन बच्चे हैं. उनके बच्चों के नाम अदिति और दो जुड़वां बच्चों के नाम अर्जुन व टीना हैं. समाजवादी पार्टी की वेबसाइट पर दर्ज अखिलेश यादव के बायो के अनुसार वह एक कृषक, इंजीनियर, राजनीतिक और समाजिक कार्यकर्ता हैं. उनका स्थानी निवास 5 विक्रमादित्य मार्ग, लखनऊ है.

अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके परिवार में फूट (Rift in Samajwadi Party and Akhilesh Yadav’s Family) पड़ गई थी. उस दौर में पार्टी स्पष्ट रूप से दो धड़ों में बंटी हुई दिखती थी. एक गुट था जो अखिलेश यादव के पक्ष में था, जबकि दूसरा गुट खुले तौर पर उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) का समर्थक था. अखिलेश को अपने एक अन्य चाचा प्रोफेसर राम गोपाल यादव (Prof. Ramgopal Yadav) का साथ मिला. शिवपाल यादव के पक्ष में उस समय पार्टी के बड़े नेता अमर सिंह (Amar Singh) और उनके पिता मुलायम सिंह भी थे. हालांकि, बाद में मुलायम सिंह अखिलेश के पक्ष में आ गए. शिवपाल यादव ने अलग प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) बना ली, लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) में दोनों पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ रही हैं.

कितने पढ़े लिखे हैं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Education Qualification of Akhilesh Yadav)

अखिलेश यादव की शुरुआती शिक्षा राजस्थान के धौलपुर मिलिट्री स्कूल (Dholpur Militry School) से हुई. साल 1990 में उन्होंने यहा से 12वीं पास की. इसके बाद उन्होंने मैसूर विश्वविद्यालय से 1994-95 में सिविल एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री ली. फिर इसी विषय में मास्टर डिग्री के लिए उन्होंने ऑस्ट्रेलिया की सिडनी यूनिवर्सिटी का रुख किया.

अखिलेश यादव का करियर (Akhilesh Yadav’s Political Career)

अखिलेश यादव पहली बार साल 2000 में कन्नौज से लोकसभा सदस्य के तौर पर चुनकर संसद के निचले सदन में पहुंचे (Akhilesh Yadav First time elected for Loksabha in 2000). 2004-2009 के आम चुनावों में भी उन्होंने कन्नौज से जीत दर्ज की और लोकसभा पहुंचे. इस दौरान वह कई समितियों में सदस्य के तौर पर शामिल रहे. साल 2012 में जब समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की तो उन्हें मुख्यमंत्री (Akhilesh Yadav becomes chief minister of UP in 2012) बनाया गया. सिर्फ 38 साल की उम्र में वह उत्तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री बने. 2019 में वह उत्तर प्रदेश की आजमगढ़ लोकसभा सीट (Azamgarh Lok Sabha constituency)) से चुनाव जीते और लोकसभा पहुंचे.

अखिलेश यादव की कुल संपत्ति और सैलरी (Akhilesh Yadav Net Worth)

अखिलेश यादव की कुल संपत्ति (Akhilesh Yadav’s Net Worth) की बात करें तो 2019 के लोकसभा चुनाव के समय दायर उनके हलफनामे के अनुसार उनके पास कुल 37 करोड़, 78 लाख, 59 हजार से ज्यादा की संपत्ति है. जबकि उन्होंने हलफनामे में बताया कि उन पर 28 लाख 53 हजार की देनदारी भी है. साल 2017-18 में उन्होने जो इनकम टैक्स रिटर्न (Akhilesh Yadav’s ITR) भरी उसके अनुसार उनकी वार्षिक आमदनी 84 लाख, 83 हजार से ज्यादा थी, 2016-17 में 71 लाख, 2015-16 में 77 लाख, 2014-15 में 48 लाख की आईटीआर अखिलेश यादव ने भरी. जबकि उनकी पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav’s ITR) ने 2017-18 में 61 लाख 45 हजार से ज्यादा की आईटीआर भरी, 2016-17 में डिंपल यादव की आईटीआर 55 लाख, 2015-16 में 53 लाख और 2014-15 में 30 लाख की आईटीआर भरी. अखिलेश और उनकी पत्नी डिंपल यादव की आमदनी का मुख्य स्रोत सैलरी, किराया और खेती (Akhilesh Yadav’s Income Source) हैं. एक सांसद को 50 हजार रुपये का मानदेय दिया जाता है, जबकि इसके अलावा उन्हें कई अन्य भुगतान भी किए जाते हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार एक सांसद पर प्रतिमाह 2 लाख 70 हजार को खर्च होता है. अखिलेश यादव एक सांसद हैं तो जाहिर है उन्हें भी इतना ही मानदेय (Akhilesh Yadav’s Salary) मिलता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें स्पेशल की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 11, 2022 4:59 PM IST

Updated Date: January 19, 2022 12:51 PM IST