लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा है कि भाजपा की नफरत फैलाने और असहिष्णुता को बढ़ावा देने की रीति-नीति के बुरे नतीजे अब सामने आने लगे हैं. प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति नियंत्रण से बाहर है. अखिलेश ने अपने बयान में कहा कि भाजपा सरकार जबसे उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ हुई है, लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर लगातार हिंसक हमले होने लगे हैं. प्रदेश की जनता सकते में है. Also Read - Gautam Buddha Nagar: सीएम योगी ने 400 बेड वाले कोविड अस्पताल का किया उद्घाटन, बना जिले का सबसे बड़ा हॉस्पिटल

सपा प्रमुख ने कहा, “आखिर सरेआम हत्या, लूट और बलात्कार करने वाले अपराधी तत्वों के हौसले किसके बलबूते पर बुलंद हो रहे हैं? भाजपा की नफरत फैलाने की रीति-नीति के बुरे नतीजे अब सामने आने लगे हैं. उन्होंने कहा कि सच लिखने वाले पत्रकारों पर खनन माफिया और भूमाफिया तो अपनी ताकत दिखाते ही रहे हैं, अब स्थानीय अपराधी भी बेखौफ हो रहे हैं. स्वयं पुलिसकर्मी भी उनके साथी बन जाते हैं. ऐसे में न्याय पाने के लिए जनता कहां जाए? Also Read - राममय हो जाएगी अयोध्या, कायाकल्प की तैयारी, हर जगह होंगे बस राम ही राम, जानें पूरा Plan

सपा मुखिया ने कहा कि गाजियाबाद में पत्रकार विक्रम जोशी को बदमाशों ने इसलिए गोली मार दी, क्योंकि उसने भांजी से छेड़छाड़ के मामले की शिकायत पुलिस से की थी. पुलिस ने कुछ किया नहीं, उल्टे उन्हें ही शिकायत करने की सजा मिल गई. फिर तो बदमाशों की हिम्मत बढ़ेगी ही. पुलिस ने अगर समय पर कार्रवाई की होती तो पत्रकार की जान नहीं जाती. Also Read - विकास दुबे के गांव में दबिश देने से पहले का पुलिस का ऑडियो अब हुआ वायरल, पूर्व SSP की बढ़ेगी मुसीबत

अखिलेश ने कहा कि सपा पत्रकार के आश्रितों को 25 लाख रुपये भाजपा सरकार द्वारा दिए जाने की मांग करती है. इनके पीड़ित परिवारीजनों के प्रति सहानुभूति में समाजवादी पार्टी ने 2 लाख रुपये की मदद की है.