लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों को कारपोरेट घरानों का गुलाम बनाने वाला कानून भाजपाई सत्ता के विरुद्ध जनआंदोलन का मुख्य कारण बन गया है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा बहुमत के बल पर विपक्ष की अनदेखी कर रही है. किसानों के खिलाफ जो काला कानून पास किया है. उसे नजरअंदाज करना भारी पड़ेगा. यही कानून भाजपा के खिलाफ जनआंदोलन का मुख्य कारण बना है.Also Read - सपा से BJP में शामिल हुए प्रमोद गुप्ता का आरोप- अखिलेश ने मुलायम को बनाया बंधक, किसी से मिलने नहीं देते

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के झूठे प्रचार की अब हर दिन पोल खुल रही है. मंडियों में काम करने वाले लाखों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं. किसान भी मारे-मारे घूम रहे हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा की नीति और नीयत दोनों किसान हितों के विरोध की है. Also Read - UP Election 2022: 100 बार चुनाव हारने का रिकॉर्ड बनाना चाहते हैं ये नेताजी, 93 बार हार चुके हैं, दिलचस्प है ख्वाहिश

अखिलेश ने कहा कि बीजेपी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने, लागत से डेढ़ गुना ज्यादा फसल की कीमत देने तथा कर्जमाफी के वादे किए थे. इनमें से एक भी वादा पूरा नहीं हुआ. अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि किसानों से भाजपा राज में जबरन जमीनें छीनी जा रही हैं. उन्हें उचित मुआवजा भी नहीं दिया जा रहा है. Also Read - UP Chunav 2022: सपा प्रमुख अखिलेश यादव मैनपुरी की करहल विधानसभा सीट से लड़ेंगे चुनाव- रिपोर्ट