लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के 16 माह में 75 जिलों का दौरा कर रिकार्ड बनाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि योगी के दौरों से यूपी में क्या बदलाव आया? इन दौरों से न तो किसान आत्महत्याएं रुकीं और न ही नौजवानों को रोजगार मिला. सच तो यह है कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. Also Read - GHMC Election 2020: हैदराबाद में बोले अमित शाह- जीएचएमसी चुनाव में जीत होने के बाद हैदराबाद बनेगा आईटी केंद्र, खत्म होगी निजाम संस्कृति

Also Read - BJP अध्‍यक्ष JP Nadda के निवास पर केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह और नरेंद्र सिंह तोमर ने की मीटिंग

अखिलेश ने अपने बयान में कहा कि योगी सरकार ने विकास तो कुछ किया नहीं, जो विकास समाजवादी सरकार में हुए उनको भी बर्बाद किया जा रहा है. सरकार का कितना बजट चला गया, कितना समय देश का बर्बाद हुआ, इसका कौन जवाब देगा? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी ने 16 महीनों में 75 जिलों का दौरा कर तथाकथित रिकार्ड बना दिया, तो प्रधानमंत्री मोदी ने 50 माह में 50 देशों की यात्रा कर डाली. मगर इन दौरों से क्या हासिल हुआ, सरकार बताए. Also Read - मैं पार्टी में जाति, धर्म आधारित प्रकोष्ठ के पक्ष में नहीं हूं: नितिन गडकरी

रवांडा पहुंचे पीएम मोदी, यहां आने वाले पहले भारतीय पीएम, इस मायने में बेहद खास है दौरा

नौजवानों को नहीं मिला रोजगार

सपा प्रमुख ने कहा कि इन दौरों से न तो बाहर से पूंजी निवेश आया, न ही बैंकों से पैसे लूटकर भागने वाले पकड़ में आए और न ही हमारे जवानों के शहीद होने की संख्या में कमी आई. यही नहीं, किसानों की आत्महत्याएं भी नहीं रुकीं. नौजवानों को रोजगार नहीं मिला. समाजवादी सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यो की तुलना दो दशक से ज्यादा गुजरात की सत्ता में रही भाजपा सरकार भी नहीं कर सकती.

29 को लखनऊ में ‘ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी’ के बहाने जुटेंगे मंत्री, उद्योगपति, पीएम मोदी संग रहेंगे अंबानी-अडानी

भाजपा सरकार ने यूपी को किया बदनाम

उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को बदनाम करने में कोई कसर छोड़ी नहीं है. भाजपा राज में अपराध थमे नहीं, अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं. हालत इतनी बुरी है कि विदेशी पर्यटक और खिलाड़ी महिलाएं भारत आने में डरती हैं. विदेशी महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटनाओं से देश की बदनामी विदेशों तक में हुई है. सच तो यह है कि यहां कानून का राज पूरी तरह खत्म हो गया है.