मथुरा: अमृतसर में ग्रेनेड हमले की घटना के बाद उत्तर प्रदेश के पश्चिमी जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया है और मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान सहित अनेक महत्वपूर्ण मंदिरों एवं तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है. विभागीय सूत्रों के अनुसार प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनन्द कुमार ने इस संबंध में दिल्ली और हरियाणा से लगे जनपदों को खास तौर पर सतर्क रहने के निर्देश जारी किए हैं. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार पंजाब की घटना के बाद हाईकमान से मिले निर्देशों के अनुपालन में मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान, वृन्दावन में ठा. बांकेबिहारी मंदिर, अंग्रेजों के मंदिर के नाम से जाना जाने वाले श्रीकृष्ण बलराम मंदिर व प्रेम मंदिर तथा मथुरा रिफाइनरी की सुरक्षा को पहले से भी अधिक कड़ा कर दिया गया है.’ Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ यूपी की सड़कों पर उतरे कांग्रेस कार्यकर्ता, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू गिरफ्तार

Also Read - मथुरा में कृष्ण जन्मस्थान परिसर से ईदगाह हटाने के लिए कोर्ट में याचिक दायर

अमृतसर में ग्रेनेड हमले में आतंकी एंगल, पाक खुफि‍या एजेंसी ISI की हो सकती है हरकत Also Read - यूपी: शादी के बाद पत्‍नी ने धर्म परिवर्तन से किया इनकार, तो पति ने गला काटकर कर दी हत्‍या

चेहरा ढंके दो हथियारबंद हमलावरों ने फेंका ग्रेनेड

बता दें कि पंजाब के अमृतसर में रविवार को एक धार्मिक समागम पर पगड़ीधारी दो युवकों ने हथगोला फेंका जिससे तीन लोगों की मौत हो गई एवं कम से कम 10 अन्य घायल हुए. गृह मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, पंजाब पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने जांच शुरू कर दी है, लेकिन अभी किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जल्दबाजी होगा. अधिकारियों के मुताबिक, इस मामले में पर्याप्त सुराग हैं और जांच सही दिशा में बढ़ रही है. कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि चेहरा ढंके दो हथियारबंद लोगों ने प्रवेश द्वार पर ड्यूटी दे रही एक महिला श्रद्धालु पर बंदूक तानकर उसे भवन की ओर चलने के लिए मजबूर किया. एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, ”प्रवेश करने के बाद उन्होंने भीड़ पर एक ग्रेनेड फेंका और भाग गए.’

अमृतसर ग्रेनेड हमला: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा

एक ग्रेनेड फेंका, दोनों हमलावरों के पास पिस्‍टल थी

घटनास्थल का निरीक्षण करने वाले पुलिस महानिरीक्षक एस एस परमार ने पत्रकारों से कहा, ”एक ग्रेनेड फेंका गया और घटना में तीन लोग मारे गए जबकि 10 लोग घायल हो गए, जिनमें से दो गंभीर रूप से घायल हैं. ” प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से आईजी ने बताया कि दोनों आरोपियों के पास पिस्‍टल थी और ग्रेनेड फेंकने के बाद वे घटनास्थल से फरार हो गए. आरोपियों को पकड़ने के लिए खोज अभियान चलाया गया है. उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच के अनुसार, घटना के समय करीब 200 लोग सभागार में मौजूद थे. परिसरों में कोई सीसीटीवी नहीं लगा है.