दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को कांग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है। इस बात की घोषणा पार्टी के वरिष्ठ नेता और उत्तर प्रदेश के प्रभारी गुलाम नबी आज़ाद ने की।  इस फैसले से साफ़ हो गया है की कांग्रेस पार्टी ने युवाओं की जगह अनुभवी नेता को तरजी दी है। शीला दीक्षित के नाम को लेकर पहले से भी चर्चा जारी थी।Also Read - यदि वीर सावरकर ने वास्तव में अंग्रेजों से माफी मांगी होती तो उन्हें कोई न कोई पद दिया गया होता: पौत्र रंजीत

Also Read - CM भूपेश बघेल ने RSS की तुलना नक्सलियों से की, बोले- इनकी धर्मांतरण और सांप्रदायिकता में मास्टरी

यह भी पढ़े: इन चार कंधों पर है यूपी चुनाव में कांग्रेस का सारा दारोमदार Also Read - गांधी- सावरकर पर बयानों की जंग: राजनाथ सिंह की टिप्‍पणी को लेकर ओवैसी और रमेश ने निशाना साधा

शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही है। अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें लोगों का भारी जनसमर्थन हासिल हुआ था। शीला ब्राह्मण समुदाय से ये ताल्‍लुक रखती है और कांग्रेस पार्टी प्रदेश के 11 फीसदी ब्राह्मण वोटरों को लुभाने की योजना बना रही है।

शीला दीक्षित का सियासी सफ़र:

  • 31मार्च 1938 को जन्मी शीला, उत्तर प्रदेश के प्रमुख कांग्रेसी नेता स्‍वर्गीय उमाशंकर दीक्षित के परिवार से ये ताल्‍लुक रखती हैं। शीला के पति विनोद दीक्षित भारतीय प्रशासनिक सेवा के सदस्य थे।
  •  दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्‍टर ऑफ आर्ट्स की डिग्री ली।
  • शीला दीक्षित साल 1984 से 1989 के बीच  उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद रही है।
  • वे केंद्र सरकार में साल १९८६ से १९८९ तक मंत्री भी रही है। उन्हें पहले संसदीय कार्यों की राज्य मंत्री  बनाया गया बाद में प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री पद सौंपा गया।
  • उनकी अध्यक्षता में कांग्रेस ने साल 1998 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल की। शीला दीक्षित ने राज्य में जीत की हैट्रिक लगाईं। वह लगातार 15 सालों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही।
  • 2013 दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस पार्टी ने उन्हें केरल की राज्यपाल बनाया था मगर 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया।
  • शीला दीक्षित ब्राह्मण है और पार्टी ने उन्हें ब्राह्मण वोटरों को अपनी और आकर्षित करने के लिए उत्तर प्रदेश में चहरा बनाया है।