लखनऊ: इलाहाबाद में अधिवक्‍ता राजेश श्रीवास्‍तव की हत्‍या के विरोध में आज यानी शुक्रवार को हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने एक दिन की हड़ताल की है. बार एसोसिएशन ने अधिवक्‍ता के हत्‍यारों की जल्‍द गिरफ्तार करने की मांग की है. उधर, योगी सरकार ने इलाहाबाद में बढ़ते अपराध पर रोक लगाने में नाकाम एसएसपी आकाश कुलहरि को हटा दिया है. उनकी जगह नितिन तिवारी को इलाहाबाद का नया एसएसपी बनाया गया है. बता दें कि इलाहाबाद में पिछले तीन महीनों में 46 लोगों की हत्‍याएं हुई हैं, बावजूद इसके पुलिस प्रशासन अपराध रोकने में नाकाम रहा है. Also Read - Mumbai: ब्‍वॉयफ्रेंड के साथ आपत्तिजनक हालात में दिखी महिला, प्रेमी संग मिलकर सास को पत्‍थरों से कुचल डाला

Also Read - UP में बीएसपी के 6 MLAs ने की बगावत, राज्‍यसभा उम्‍मीदवार का विरोध कर सपा चीफ से मिले

  Also Read - संदीपा धर की 'मुंभाई' में मुंह दिखाई, पुलिस और गैंगस्टर की दोस्ती में फूट डालेगी ये एक्ट्रेस

बता दें कि गुरुवार सुबह साढ़े दस बजे के करीब इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्‍ता राजेश श्रीवास्‍तव बाइक से कचहरी जा रहे थे. इस दौरान मनमोहन पार्क के पास दो बदमाशों ने उनका पीछा कर कनपटी पर गोली मार दी थी. इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी. दिनदहाड़े हुई हत्‍या के बाद गुस्‍साए लोगों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन भी किया था. इस दौरान गुस्‍साए वकीलों ने एसएसपी ऑफिस के सामने एक बस को भी आग के हवाले कर दिया था. मामले में जानकारी पर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने पीड़ित परिवार को 20 लाख रुपये की मदद की घो‍षणा की थी.

सीएम योगी ने की इलाहाबाद में मारे गए अधिवक्ता के परिवार को 20 लाख मुआवजे की घोषणा

50 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग

हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने हत्‍या के विरोध में शुक्रवार को एक दिन की हड़ताल की. इस दौरान बार एसोसिएशन ने मांग की कि वकील राजेश श्रीवास्तव की हत्या करने वालों की फौरन गिरफ्तारी की जाए. साथ ही मृतक वकील के परिवार में एक सदस्‍य को सरकारी नौकरी और 50 लाख का मुआवजा देने की मांग भी की.

 

आकाश कुल‍हरि हटाए गए, नितिन तिवारी बने नए एसएसपी

योगी सरकार ने इलाहाबाद में बढ़ते अपराध पर रोक लगाने में अब तक नाकाम रहे एसएसपी आकाश कुलहरि को हटा दिया है. उनकी जगह नीतिन तिवारी को इलाहाबाद का नया एसएसपी बनाया गया है. बता दें कि इलाहाबाद में पिछले तीन महीनों में 46 लोगों की हत्‍याएं हुई हैं, बावजूद इसके पुलिस प्रशासन अपराध रोकने में नाकाम रहा है.