लखनऊ: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने पुलिस से कहा कि वह उच्चतम न्यायालय के 2014 के एक आदेश द्वारा समर्थित सीआरपीसी के प्रावधानों का पालन किए बगैर एक दलित महिला और उसकी बेटी पर हमले के आरोपी चार लोगों को गिरफ्तार नहीं कर सकती. यह मामला आईपीसी के साथ-साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून के तहत दर्ज हुआ था, लेकिन न्यायालय ने पुलिस को तत्काल ‘नियमित’ (रूटीन) गिरफ्तारी करने से रोक दिया.Also Read - यूपी विधानसभा में भातखंडे संस्कृति विश्वविद्यालय विधेयक-2022 समेत दो बिल पारित

Also Read - आजम खान को सुप्रीम कोर्ट ने दी बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी के हिस्सों को गिराने पर रोक

SC/ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सही, केंद्र अपने फैसले पर फिर करे विचार: ओमप्रकाश राजभर Also Read - नोएडा: दो ट्रेनी नर्सों का अश्लील वीडियो बनाकर एक अन्य नर्स ने सोशल मीडिया पर किया वायरल

उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में न्यायमूर्ति अजय लांबा और न्यायमूर्ति संजय हरकौली की खंडपीठ ने यह आदेश पारित किया. साल 2014 में उच्चतम न्यायालय ने अर्णेश कुमार के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी पर दिशानिर्देशों का समर्थन किया था. सीआरपीसी की धारा 41 और 41-ए कहती है कि सात साल तक की जेल की सजा का सामना कर रहे किसी आरोपी को तब तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा जब तक पुलिस रिकॉर्ड में उसकी गिरफ्तारी के पर्याप्त कारणों को स्पष्ट नहीं किया जाता.

गरीब सवर्णों को मिले 25 प्रतिशत आरक्षण, मोदी सरकार के मंत्री रामदास अठावले ने की वकालत

सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पटलने की मंशा से संसद ने कानून में संशोधन किया

उच्च न्यायालय का आदेश ऐसे समय पर आया है जब अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून का दुरूपयोग रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से पारित आदेश को पलटने की मंशा से हाल में संसद ने इस कानून में संशोधन के लिए एक विधेयक पारित किया है.