इलाहाबाद: बसपा प्रमुख मायावती को बड़ी राहत मिली है. हाईकोर्ट ने मायावती के खिलाफ दर्ज की गई एक याचिका खारिज कर दी है. मायावती पर नोएडा में ज़मीन को अधिग्रहण मुक्त कराकर बेचने के आरोप में यह याचिका दायर की गई थी. याचिका संदीप भाटी नाम के शख्स ने दायर की थी, जिसे आज इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

मायावती ने कहा- बिना UPSC के संयुक्त सचिव की भर्ती खतरनाक, ये व्यवस्था का मजाक उड़ाने जैसा Also Read - UP Assembly Election 2022: अमित शाह ने टीवी पर अखिलेश यादव को भाषण देते हुए देखा, फिर यूपी आकर बोले...

याचिका में आरोप था कि मायावती ने नोएडा के बदलापुर गांव में अधिग्रहित की गई जमीन को अधिग्रहण से मुक्त कराकर बेच दिया था. बताते हैं कि पहले इस जमीन को मायावती के पिता प्रभुदयाल के नाम कराया गया, फिर मायवाती के भाई आनंद कुमार के नाम करा दिया. आनंद कुमार ने इस जमीन के बड़े हिस्से पर घर बना लिया. आरोप था कि जमीन को अनियमित तरीके से बेचा और फिर आनंद कुमार के नाम आवंटित करा दिया गया. और इसे आबादी वाली ज़मीन घोषित करा दिया.

आंबेडकर जयंती: मायावती ने कहा- दलितों के प्रति पीएम की नीयत साफ़ नहीं, अखिलेश बोले- यूपी में दलितों के साथ बढ़ रहा अत्याचार

इस मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीबी भोसले व जस्टिस यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने सुनवाई की. और याचिका को खारिज करने का आदेश दिया. इससे पहले हाईकोर्ट ने 2017 मे हाईकोर्ट ने मायावती के पिता व अन्य को मामले में नोटिस जारी किया गया था. आज हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने याचिका को खारिज कर मामले को बंद कर दिया. याचिकाकर्ता द्वारा दिए गए सुबूतों से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं हुई.