लखनऊ: मोदी सरकार ने भले ही वीआईपी कल्‍चर पर रोक लगा दी हो, लेकिन उसके अपने ही नेता पार्टी की छिछालेदर कराने में लगे हुए हैं. ताजा मामला इलाहाबाद से बीजेपी की मेयर व यूपी सरकार में मंत्री नंद गोपाल गुप्‍ता की पत्‍नी से जुड़ा हुआ है. इलाहाबाद की मेयर अभिलाषा गुप्‍ता लखनऊ तक बिना नंबर की कार से पहुंच गईं. इस बाबत जब मीडिया ने पूछा तो उन्होंने कहा दिया कि वो गाड़ी उन्हें प्रशासन ने मुहैया कराई है और नंबर प्लेट के बारे में दो दिन पहले ही उन्होंने प्रशासन को बता दिया था. Also Read - 54 जिलों से हैं 50% प्रवासी, 44 यूपी-बिहार के ही, PM मोदी का वाराणसी, योगी का गोरखपुर, अखिलेश का इटावा लिस्ट में

  Also Read - नोएडा में टिड्डी दल से बचाव के लिए बनी कमेटी, डीएम ने किसानों को दी सलाह

बता दें कि अभिलाषा गुप्ता दूसरी बार इलाहाबाद की मेयर चुनी गई हैं. अभिलाषा के पति नंद गोपाल गुप्ता यूपी सरकार में मंत्री हैं. बीते दिनों अभिलाषा गुप्ता एक सरकारी काम से लखनऊ आई हुई थीं. इस दौरान उनकी गाड़ी पर नंबर प्लेट के स्थान पर ‘महापौर इलाहाबाद’ लिखा हुआ है और यूपी प्रशासन का चिह्न लगा हुआ है. जबकि नंबर प्लेट के स्थान पर किसी भी प्रकार का अतिरिक्त चिह्न या नाम पट्टी का इस्तेमाल गैर कानूनी है.

मेयर का तर्क, यह गाड़ी तो प्रशासन ने दी
इस पर अभिलाषा गुप्ता ने तर्क दिया कि यह गाड़ी उन्होंने नहीं खरीदी, बल्कि प्रशासन ने दी है. इस दौरान उन्‍होंने बताया कि प्रशासन ने नंबर प्लेट के लिए आरटीओ में आवेदन भी दिया हुआ है. बता दें कि मोदी सरकार ने नेताओं के वीआईपी कल्‍चर पर सीधे रोक लगा दी है. साथ ही बिना नंबर की गाड़ी से यात्रा करना अपराध की श्रेणी में आता है, बावजूद इसके इलाहाबाद की मेयर बिना नंबर की कार लिये राजधानी लखनऊ तक पहुंच गईं.