लखनऊ: संगम नगरी इलाहाबाद अब प्रयागराज के नाम से जानी जाएगी. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने आज यह महत्वपूर्ण फैसला किया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में तय किया गया कि इलाहाबाद का नाम अब प्रयागराज होगा. Also Read - UP Legislative Council की 11 सीटों पर मतगणना जारी, जल्‍द आएंगे परिणाम

Also Read - योगी कैबिनेट का जल्द हो सकता है विस्तार! कुछ मंत्र‍ियों की छुट्टी तय, कुछ नए चेहरे होंगे शामिल

  Also Read - हाथरस डीएम से इलाहाबाद कोर्ट ने पूछा- अगर तुम्हारी बेटी होती तब भी आधी रात में जला देते?

बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने यहां संवाददाताओं को बताया कि प्रयागराज नाम रखे जाने का प्रस्ताव कैबिनेट की बैठक में आया, जिसे मंजूरी प्रदान कर दी गयी. ऋगवेद, महाभारत और रामायण में प्रयागराज का उल्लेख मिलता है. उन्होंने कहा कि सिर्फ वह ही नहीं, बल्कि समूचे इलाहाबाद की जनता, साधु और संत चाहते थे कि इलाहाबाद को प्रयागराज के नाम से जाना जाए. दो दिन पहले जब मुख्यमंत्री ने कुंभ से संबंधित एक बैठक की अध्यक्षता की थी, तो उन्होंने खुद ही प्रस्ताव किया था कि इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया जाना चाहिए.

इलाहाबाद का नाम बदले जाने पर अखिलेश का तंज, सरकार ने किया पलटवार

राज्यपाल राम नाईक ने भी जताई थी सहमति

सभी साधु संतों ने सर्वसम्मति से इस प्रस्ताव पर मुहर लगायी थी. उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद में कुंभ मार्गदर्शक मंडल की बैठक में भी यह मुद्दा आया था . इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किये जाने की मांग अरसे से चल रही थी. राज्यपाल राम नाईक ने भी इसके नाम बदलने पर सहमति जताई थी.