अलीगढ़ (यूपी): अयोध्या मामले में निकट भविष्य में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की संभावनाओं के बीच अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) प्रशासन ने समाज के विभिन्न वर्गों को सलाह दी है कि वे सोशल मीडिया पर फैलाई जाने वाली अफवाहों और झूठी खबरों से होशियार रहें.

एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने सोमवार को समाज के विभिन्न वर्गों को लिखे एक ‘खुले पत्र’ में आग्रह किया कि वे सोशल मीडिया के जरिए उड़ाई जाने वाली अफवाहों और झूठी खबरों से सावधान रहें. साथ ही जाने-अनजाने ऐसी गतिविधियों से भी दूर रहें जिनसे शहर और देश का माहौल खराब हो.

कुलपति ने बेहद भावुक अपील करते हुए कहा कि दुनिया हमारा आंकलन इस बात से करेगी कि हम अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले पर कैसी प्रतिक्रिया देते हैं. हमें हिंदुस्तान की सबसे बड़ी अदालत के फैसले को पूरी परिपक्वता के साथ स्वीकार करना होगा, ताकि दुनिया को पता चले कि हम वाकई एक जिम्मेदार समाज का हिस्सा हैं.

कुलपति ने परिसर के हालात का जायजा लेने और सभी एहतियाती सुरक्षा उपायों पर विचार के लिए सोमवार को विश्वविद्यालय के शीर्ष अधिकारियों की बैठक बुलाई है.

बता दें कि एएमयू में करीब 30 हजार विद्यार्थी पढ़ते हैं. इनमें से ज्यादातर विश्वविद्यालय परिसर में ही बने विभिन्न छात्रावासों में रहते हैं.