लखनऊ: लोकसभा चुनाव में टिकट कटने के बाद यूपी के हरदोई लोकसभा सीट से भाजपा सांसद अंशुल कुमार वर्मा ने आज सुबह पार्टी से इस्‍तीफा दे दिया. साथ ही दोपहर होते-होते उन्‍होंने सपा का झंडा थाम लिया. समाजवादी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में अंशुल कुमार वर्मा ने सपा की सदस्‍यता ग्रहण की. इस दौरान उन्‍होंने भाजपा पर जमकर हमला बोला.

 

सपा में शामिल हुए अंशुल कुमार वर्मा ने कहा कि वे सपा में बिना शर्त शामिल हुए हैं. भाजपा द्वारा टिकट नहीं दिये जाने के पीछे शायद उनकी गलती यह थी कि उन्‍होंने पासी समुदाय के एक सम्मेलन के दौरान मंदिर परिसर में शराब बांटने के खिलाफ आवाज उठायी थी. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि उन्‍हें इस पर दु:ख हुआ था और उन्‍होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस बारे में पत्र भी लिखा था. वर्मा ने कहा कि उनकी गलती ये भी हो सकती है कि उन्होंने अपने नाम के पहले ‘चौकीदार’ शब्द नहीं जोड़ा. बता दें कि भाजपा ने हरदोई सीट से वर्मा की बजाय जय प्रकाश रावत को टिकट दिया है.

भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ ने थामा भगवा झंडा, इस सीट से लड़ सकते हैं चुनाव

भाजपा के दिखावे की नैतिकता का भंडाफोड़ हो गया: अखिलेश
समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मार्गदर्शक मण्डल के टिकट काटे जाने पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि भाजपा के दिखावे की नैतिकता का भंडाफोड़ हो गया है. उन्होंने ट्वीट किया कि विकास पूछ रहा है कि मार्गदर्शक मंडल को ही बाहर का रास्ता दिखा देने वाले किस संस्कृति, चाल, चलन, चरित्र का परिचय दे रहे हैं? भाजपा के दिखावे की नैतिकता का भंडाफोड़ हो गया है.

लोकसभा चुनाव 2019: बेगूसराय सीट पर क्‍या बिगड़ रहा गिरिराज सिंह का गणित, ऐसे छलका दर्द

युवा तो पहले ही भाजपा को वोट नहीं दे रहे थे, अब बड़े-बुजुर्ग भी नहीं देंगे. भाजपा अंदर से टूट गयी है. गौरतलब है कि भाजपा ने अपने मार्गदर्शक मण्डल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को आगामी लोकसभा चुनावों के लिए टिकट नहीं दिए गए हैं. इसके बाद से विपक्ष भाजपा पर निशाना साध रहे हैं.

Lok Sabha Election 2019: टिकट कटने से नाराज हैं BJP के ये प्रमुख नेता