हाथरस: उत्तर प्रदेश के हाथरस में महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने के लिए एंटी रोमियो दस्ते फिर से सक्रिय हो गए हैं. इसके लिए 50 से ज्यादा कर्मियों वाली करीब एक दर्जन टीमें बनाई गई हैं. अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. उत्तर प्रदेश सरकार ने “मिशन शक्ति” अभियान शुरू किया है जिसके तहत यह कदम उठाया गया है. Also Read - Uttar Pradesh Roadways News: रोडवेज के संविदा चालकों और परिचालकों को योगी सरकार का तोहफा

प्रदेश सरकार को हाथरस में 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और उसकी मौत के मामले में काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था. महिला अपराधों के बढ़ने की वजह से विरोधी राजनीतिक दल भी लगातार योगी सरकार पर निशाना साध रहे हैं. Also Read - यूपी के इन 13 जिलों में बनने जा रहे हैं मेडिकल कॉलेज, सीएम योगी ने 15 दिसंबर के पहले निर्माण कार्य शुरू करने के दिए निर्देश

हाथरस के पुलिस अधीक्षक (एसपी) विनीत जयसवाल ने रविवार को कहा, ” जिले में महिला थाना समेत, 11 थाने हैं. 11 एंटी रोमियो दस्ते हैं जिनमें हरेक में पांच पुलिस कर्मी शामिल हैं. एक टीम में तीन महिला और दो पुरुष कर्मी हैं. ये दस्ते महिलाओं और लड़कियों को परेशान करने वाले बदमाशों पर नजर रखेंगी.” Also Read - यूपी में योगी सरकार ने दिया किसानों को दिवाली का तोहफा, मंडी शुल्क में 50 फीसदी की कटौती

जिला पुलिस प्रमुख ने रविवार को दस्तों के सभी सदस्यों के साथ बैठक की और महिलाओं तथा लड़कियों के खिलाफ अपराध को रोकने की जरूरत पर जोर दिया. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि ये दस्ते बाजार, स्कूलों एवं कॉलेजों, कोचिंग संस्थानों के आसपास, बस स्टैंड तथा पार्क आदि में गश्त करेंगे और महिलाओं एवं लड़कियों का उत्पीड़न रोकेंगे.

(इनपुट एजेंसी)