लखनऊ: इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी हत्या मामले में आरोपी संदीप कुमार को मंगलवार को जमानत दे दी. अदालत ने संदीप को निर्देश दिया कि वह जमानत पर मिली छूट का दुरुपयोग ना करे.

 

न्यायमूर्ति डी के सिंह ने संदीप की याचिका पर उक्त आदेश दिया. याचिकाकर्ता ने आग्रह किया था कि वह निर्दोष है और पुलिस के आरोपपत्र में शुरुआत में हत्यारोपी के रूप में उसका नाम नहीं था. एप्पल के अधिकारी विवेक (38) की पिछले साल 29 सितंबर को कांस्टेबल प्रशान्त चौधरी ने गोमती नगर एक्सटेंशन में गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिसकर्मी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था. घटना के बाद दो कांस्टेबल चौधरी और संदीप कुमार को गिरफ्तार किया गया था.

विवेक तिवारी हत्याकांड, निलंबित सिपाही का इस्तीफ़ा कहा- ‘पुलिस की नौकरी आत्महत्या से कम नहीं’

जमानत अर्जी का सरकारी वकील व विवेक तिवारी की पत्‍नी ने किया विरोध
आरोपी के अधिवक्‍ता के अनुसार, जमानत अर्जी का सरकारी वकील व विवेक तिवारी की पत्‍नी कल्‍पना के वकील की ओर से विरोध किया गया. पक्षकारों के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने मामले में संदीप कुमार को जमानत पर रिहा किए जाने का उपयुक्‍त आधार माना. आरोपी के वकील ने कहा कि संदीप के खिलाफ हत्‍या का आरोप बाद में लगाया गया जो उचित नहीं था. आरोपी ने पहले सत्र अदालत में जमानत की अर्जी दाखिल की थी, जहां से इसके नामंजूर होने के बाद हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई.

विवेक तिवारी हत्याकांड के पीछे पुलिसकर्मियों को पेशेवर प्रशिक्षण की कमी भी जिम्मेदार: डीजीपी