लखनऊ. उत्तर प्रदेश के कुशीनगर की एक अदालत ने प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. अदालत ने जिला पुलिस को निर्देश दिया है कि अगर शाही पेश नहीं हुए तो उनकी संपत्ति जब्त कर ली जाए. शाही के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 353 और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था. Also Read - अयोध्‍या के राम मंदिर का 1000 साल का होगा जीवन काल, तेज भूकंप से भी नहीं होगा नुकसान

बता दें कि यह मामला 1994 का है.  जो सरकारी कर्मचारी को ड्यूटी करने से जबरन रोकने से संबंधित है. इससे पहले सूर्य प्रताप शाही इस मामले में 2007 से पेश नहीं हुए हैं. मामले की सुनवाई 2004 में शुरू हुई थी. जिसके बाद मंत्री शाही कोर्ट में कभी भी पेशी के दौरान हाजिर नहीं हुए. वहीं 11 वर्षों से पत्रावली में गैरहाजिर रहने के मामले में अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी कर दिया.

अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट चंद्र मोहन चतुर्वेदी ने कहा कि मंत्री का पेश नहीं होना गंभीर अपराध है. जिसके बाद अदालत ने मंत्री सूर्य प्रताप के खिलाफ मंगलवार को गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया है और उनकी संपत्ति को कुर्क करने का भी आदेश दिया है. वहीं इस मामले में मंत्री टिप्पणी के लिए तत्काल नहीं उपलब्ध हो सके.