लखनऊ: लोकसभा के पिछले चुनाव में वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को चुनौती देने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आगामी आम चुनाव नहीं लड़ेंगे. लेेेकिन उनकी आम आदमी पार्टी काशी से किसी अन्य मजबूत प्रत्याशी को जरूर खड़ा करेगी. आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने रविवार को फोन पर बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. वह दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं और अपने राज्य पर विशेष ध्यान देना चाहते हैं. Also Read - Mann Ki Baat: किसान आंदोलन के बीच पीएम मोदी ने कृषि बिल को लेकर कही बड़ी बात, बोले- अब किसानों को...

Also Read - PM kisan Samman Nidhi Yojana: एक दिसंबर से पहले कर ले यह जरूरी काम नहीं तो इस बार खाते में नहीं आएगी सातवीं किस्त

शिवराज का ट्वीट, हाथी जब साइकिल की सवारी करने लगे और पंजा हाथ मलता रह जाए तो समझ लेना… Also Read - Mann ki Baat: कृषि कानून पर पीएम मोदी ने कहा- कृषि बिल से किसानों की पुरानी मांगे पूरी हुईं, अफवाहों से रहें दूर

आप प्रवक्ता ने कहा कि केजरीवाल ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के तत्कालीन दावेदार नरेन्द्र मोदी को पिछले लोकसभा चुनाव में वाराणसी सीट पर चुनौती दी थी. पार्टी इस बार वाराणसी में केजरीवाल के बजाय किसी अन्य मजबूत प्रत्याशी को खड़ा करेगी.

संघर्ष की स्थिति में चीन को माकूल जवाब देने के लिए भारत कर रहा ये अहम तैयारी

बता दें कि केजरीवाल ने साल 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को नई दिल्ली सीट से पराजित किया था. उसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में वह मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़े और दूसरे स्थान पर रहे थे.

वे अपना साम्राज्य खड़ा करना चाहते हैं, ये अवसरवादी गठबंधन है, वशंवादी पार्टियां हैं: मोदी

आप प्रवक्ता ने बताया कि उनकी पार्टी दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, गोवा और चंडीगढ़ की सभी लोकसभा सीटों पर जबकि उत्तर प्रदेश की कुछ सीटों पर चुनाव लड़ेगी. उत्तर प्रदेश के बारे में फरवरी तक सारी चीजों को अंतिम रूप दे दिया जाएगा. पार्टी वाराणसी के अलावा पूर्वांचल और पश्चिमांचल की कुछ ऐसी सीटों पर भी चुनाव लड़ेगी, जहां उसका संगठन मजबूत है.

यूपी: गठबंधन में नहीं मिली जगह, लोकसभा की 80 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

अगले लोकसभा चुनाव में आप के मुद्दों के बारे में सिंह ने बताया कि दिल्ली में उनकी पार्टी की सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य, किसान, बिजली, पानी की प्राथमिकताओं पर काम कर रही है. अगर हम राष्ट्रीय राजनीति में जाएंगे तो सभी के लि, शिक्षा, कमजोर तबकों को निःशुल्क शिक्षा, बेरोजगारी खत्म करने और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू कराने के मुद्दे लेकर जनता के बीच जाएंगे.

‘एक बार फिर मोदी सरकार’ के नारे को हकीकत बनाने के लिए 22 करोड़ लोगों से सीधे संपर्क करेगी बीजेपी

आप प्रवक्ता ने केजरीवाल द्वारा पिछले दिनों आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को वोट ना दिए जाने संबंधी बयान के बारे में कहा कि उनकी बात को आधे-अधूरे तरीके से पेश किया गया. केजरीवाल ने दिल्ली की सभा में कहा था कि भाजपा को हराना है, तो कांग्रेस को वोट देकर उसे बर्बाद ना करे. उनका मतलब दिल्ली प्रदेश के परिप्रेक्ष्य में था, जहां आम आदमी पार्टी सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

बिहार में रंगदारी नहीं देने पर हुई गुंडगर्दी का है ये वीडियो, बदमाशों ने महिला पर किया हमला