लखनऊ: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां गुरुवार को लखनऊ के गोमती नदी में विसर्जित की जाएंगी. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और लखनऊ से सांसद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह उपस्थित रहेंगे. इसके बाद 24 अगस्त को उनकी अस्थियों का विसर्जन अयोध्या, कानपुर के बिठूर और बलरामपुर में किया जाएगा.

 

भाजपा के प्रदेश महासचिव एवं विधान परिषद सदस्य विजय बहादुर पाठक ने बताया कि 23 अगस्त को राजधानी के झूलेलाल पार्क में एक बड़ा आयोजन किया गया है. इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सांसद एवं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ उपस्थित रहेंगे. कार्यक्रम के बाद गोमती में उनकी अस्थियां विसर्जित की जाएंगी. उन्होंने बताया कि अगले दिन 24 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री अटल की अस्थियां अयोध्या, कानपुर के बिठूर और बलरामपुर में पहुंचेंगी. अस्थि कलश यात्राओं के साथ प्रदेश के पदाधिकारी एवं एक मंत्री मौजूद रहेंगे. बता दें कि उत्तर प्रदेश के सभी मंडल मुख्यालयों से अस्थि कलश यात्राएं निकाली जाएंगी.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां हरिद्वार में गंगा नदी में विसर्जित

अस्थि कलश यात्रा के दौरान जगह-जगह होंगे कार्यक्रम
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में अस्थि कलश यात्रा के दौरान जगह-जगह पर कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा और इस दौरान अटल के महत्वपूर्ण भाषण व कविताएं लोगों को सुनाई जाएंगी ताकि लोग अपनी भावनाओं का इजहार कर सकें. दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी के साथ अपने अनुभव साझा करते हुए पांडेय ने कहा कि अटल ऐसे व्यक्तित्व के धनी आदमी थे कि उनसे मिलने के बाद ही सारे तनाव अपने आप दूर हो जाते थे. वे पहली बार अटल से 1997 में मिला था, उस समय मैं काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में महामंत्री था. दिल्ली में उनसे मुलाकात उस समय हुई थी जब वह विदेश मंत्री थे.