लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की मंत्री स्वाति सिंह की लखनऊ की एक पुलिस अधिकारी से कथित फोन बातचीत के मामले पर संज्ञान लेते हुये पुलिस महानिदेशक से मामले की रिपोर्ट मांगी है. सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक ऑडियो क्लिप में मंत्री स्वाति सिंह क्षेत्राधिकारी (सीओ) कैंट बीनू सिंह से अंसल डेवलेपर के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के संबंध में पूछताछ करते हुए सुनी जा सकती हैं.

मंत्री को इस ऑडियो में प्राथमिकी दर्ज किये जाने पर नाखुशी जाहिर करते हुए और सीओ को आकर मिलने की हिदायत देते हुए भी सुना जा सकता है. मामला सामने आने के बाद मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से इस मामले पर रिपोर्ट मांगी है. डीजीपी ओ पी सिंह ने कहा कि मंत्री स्वाति सिंह और क्षेत्राधिकारी कैंट के बीच हुई बातचीत की रिपोर्ट शहर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि मैथानी से मांगी गई है. रिपोर्ट मिलते ही इसे मुख्यमंत्री को सौंप दिया जाएगा.

ऑडियो में मंत्री को कहते सुना जा सकता है कि फर्जी मामले दर्ज किये गये हैं, खत्म कीजिये यह सब, ऊपर बैठे लोग इस मामले के बारे में जानते हैं. वह सीओ से यह भी कहती सुनाई पड़ रही हैं कि ‘‘मामले की जांच हो रही है और यह मुख्यमंत्री के संज्ञान में है. एक दिन आकर बैठ लीजियेगा, अगर यहां काम करना है तो.’’ ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा है.

समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर कहा, ‘ ‘मामला हाई प्रोफाइल है. मुख्यमंत्री जी के संज्ञान में चल रहा है. आप कौन सी जांच कर लेंगी? बैठिए आकर कभी’ ये है भ्रष्टाचार को लेकर वो ज़ीरो टॉलरेंस जिसकी दुहाई मुख्यमंत्री जी देते नहीं थकते? शर्मनाक!’ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट कर कहा, ‘‘उप्र की मंत्री महोदया घोटालेबाज बिल्डर की पैरवी में सीओ कैंट को धमका रही हैं. घोटालेबाजों की भाजपा शासन में धाक देखिए, कैसे मंत्री महोदया क़ानून के रखवालों को धमका रही हैं.’