अयोध्या (यूपी): भाजपा की फैजाबाद जिला इकाई के अध्यक्ष ने मंगलवार को कहा कि बातचीत से अयोध्या मुद्दे को सुलझाने का रास्ता अब समाप्त हो चुका है और भाजपा संवैधानिक या विधायी तरीके से यहां राम मंदिर निर्माण की दिशा में काम करेगी. अयोध्या में इस बार दीपावली उत्सव राम मंदिर पर चल रही बहस की छाया में मनाया जा रहा है जहां भाजपा और संघ परिवार के अंदर अध्यादेश लाकर राम जन्मभूमि पर मंदिर बनाने की मांग जोर पकड़ रही है. Also Read - सुभाषचंद्र बोस के धर्मनिरपेक्ष विचारों के खिलाफ थे RSS के लोग, BJP को जयंती मनाने का अधिकार नहीं: कांग्रेस

Also Read - भाजपा सांसद साक्षी महाराज का विवादित बयान, बोले- नेताजी को कांग्रेस ने मरवाया

अयोध्या विवाद पर कोर्ट जो भी कहेगा, उसका सम्मान करना होगा: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड Also Read - West Bengal: PM मोदी के पहुंचने से पहले बवाल, हावड़ा में BJP कार्यर्ताओं पर हमला, TMC वर्कर्स पर आरोप

भाजपा की फैजाबाद इकाई के अध्यक्ष अवधेश पांडेय ने दावा किया कि अयोध्या की अधिकतर आबादी मंदिर बनते हुए देखना चाहती है क्योंकि यह उनके लिए आस्था का विषय है और भाजपा ही एकमात्र पार्टी है जो उनके लिए इस विषय को उठाती है. उन्होंने कहा कि ‘मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने की मांग जोर पकड़ रही है और भाजपा विधायी तरीका अपनाएगी या संविधान की रूपरेखा के तहत कोई कदम उठाएगी. बातचीत से मसला हल करने का रास्ता खत्म हो गया है.’

विनय कटियार बोले- कांग्रेस के दबाव में टल रही अयोध्या विवाद की सुनवाई, जानिए किसने क्या कहा

पांडेय ने कहा कि पहले सामुदायिक संवाद का विकल्प था और अदालत ने अवसर भी दिया था, लेकिन यह कारगर नहीं रहा. उन्होंने कहा कि ‘हमने वार्ड स्तर पर जाकर जनता का मिजाज भांपा और वे चाहते हैं कि राम मंदिर बनना चाहिए.’ जब पूछा गया कि क्या मुस्लिम समुदाय भी ऐसा ही चाहता है तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत भाजपा के कई नेता अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की दिशा में तेजी से काम करने पर जोर दे रहे हैं. इनमें से केंद्रीय मंत्री विजय गोयल समेत कुछ नेताओं ने अध्यादेश का रास्ता अपनाने का सुझाव दिया है.