लखनऊ/अयोध्या: उत्तर प्रदेश के अयोध्या में छह दिसंबर से पहले सरगर्मियां तेज हो गई हैं. मंगलवार को तपस्वी छावनी के महंत परमहंस को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उन्हें सीजीएम कोर्ट में पेश किया गया. जहां से सीजेएम ने परमहंस दास को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया. Also Read - अब प्रयागराज के इस स्थान में स्थापित होगी भगवान राम की विशाल मूर्ति, योगी सरकार ने 15 करोड़ बजट को दी स्वीकृति

Also Read - UP कैबिनेट ने Ayodhya Airport का नया नाम मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम एयरपोर्ट करने के प्रस्‍ताव को पास किया

उप्र: परमहंस की चेतावनी, 6 दिसंबर को मंदिर निर्माण की तारीख घोषित नहीं हुई तो आत्‍मदाह करेंगे Also Read - Lord Rama Shringverpur: अयोध्या के बाद श्रृंगवेरपुर में स्थापित होंगे श्रीराम, लगेगी भव्य मूर्ति, जानें महत्व

बता दें कि परमहंस दास ने तपस्वी छावनी मंदिर पर सोमवार को बाबर विचारधारा विध्वंस महायज्ञ का ऐलान किया था. छह दिसंबर को दोपहर 12 बजे अपनी चिता बनाकर आत्मदाह करने के निर्णय पर वह अटल थे. राम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर संत परमहंस ने पूर्व में भी अमरण अनशन किया था लेकिन अभी तक कोई निर्णय नहीं होने से नाराज महंत परमहंस दास ने आत्मदाह करने की घोषणा की थी. गौरतलब है कि अक्टूबर माह में आमरण अनशन कर सुर्खियों में आए परमहंस दास को अनशन समाप्त नहीं करने पर पुलिस ने उठाकर पीजीआई में भर्ती कराया था.

अयोध्या: राम मंदिर निर्माण को लेकर अनशन पर बैठे महंत परमहंस दास का वजन 15 किलो घटा

जहां से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें अपने आवास पर बुलाकर जूस पिलाते हुए अनशन समाप्त कराया था. उचित निर्णय न आने पर उन्होंने आत्मदाह के लिए तपस्वी छावनी में अपनी चिता सजा रखी थी और चिता पूजन भी किया था. हालांकि, पुलिस ने धर्मसभा के एक दिन पहले उनकी चिता हटा दी थी. (इनपुट एजेंसी)