नई दिल्ली: भारत सहित दुनिया के लाखों लोगों को सालों से इस बात का इंतजार था कि कब राम मंदिर का निर्माण कार्य शरू होगा. अब वो पल बहुत ही नजदीक आ गया है. लेकिन जब तमाम मुश्किलों से पीछा छूटा और राम मंदिर बनने का मार्ग प्रशस्त हुआ तो अब ऐसा लग रहा है कि कहीं कोरोना वायरस कोई अड़ंचन ने पैदा कर दे. आज अयोध्या से एक ऐसी खबर सामने आई जिसनें मन में थोड़ी चिंता जरूर पैदा कर दी है. राम मंदिर जन्म भूमि मंदिर के मुख्य पुजारी प्रदीप दास कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इसके साथ ही मंदिर परिसर की सुरक्षा में तैनात 16 पुलिसकर्मी भी कोरोना से संक्रमित मिले हैं. Also Read - 216 Crore Vaccine Doses To Be Available In 5 Months: अगस्त के दिसंबर के बीच मिलेंगी टीके की 216 करोड़ खुराकें, दूर होगा संकट

Ram Mandir risk of corona virus at the ground breaking ceremony Also Read - दिल्ली में Covaxin की आपूर्ति रोके जाने के आरोप पर भारत बायोटेक ने कही ये बात

बता दें कि राम मंदिर भूमि पूजन का कार्यक्रम 5 अगस्त को निर्धारित है और इसमें प्रधानमंत्री मोदी शामिल होने आ रहे हैं. भूमि पूजन का काम उन्ही के हांथो से होगा. कोरोना वायरस के चलते इस कार्यक्रम में मात्र 200 लोगों को ही आमंत्रित किया गया है लेकिन अब मंदिर के पुजारी और पुलिस कर्मियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने की खबर से प्रशासन में हड़कंप मच गया है. प्रशासन इस बात की जानकारी जुटाने में लग गया है कि ये सभी लोग किन किन लोगों की संपर्क में आए थे. Also Read - कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में सैमसंग 50 लाख डॉलर देगा, पेटीएम 13 शहरों में आक्सीजन प्लांट लगाएगा

Ram Mandir Bhumi Pujan in Ayodhya

मुख्य पुजारी के साथ भगवान राम की सेवा में चार अन्य पुजारी भी रहते हैं. अब प्रदीप दास के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद बांकी सभी पुजारियों का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा. कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पुजारी प्रदीप दास को होम क्वारंटीन किया गया है इसके साथ ही 16 पुलिस कर्मियों को भी क्वारंटीन कर दिया गया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राम मंदिर भूमि पूजन के लिए जिन लोगों को आमंत्रिक गया है उन्हें 50-50 लोगों के ब्लाक में बैठाया जाएगा ताकि एक जगह पर भीड़ एकत्रित न हो. भूमि पूजन पांच अगस्त को है लेकिन उसके दो दिन पहले यानि तीन अगस्त से पूजन से संबंधित कार्यक्रम शुरू हो जाएंगे.

अब कार्यक्रम नजदीक होते ही पुजारियों और सुरक्षा कर्मियों के कोरोना पॉजिटिव होने से प्रशासन के सामने एक नई चुनौती सामने आ गई है. सभी लोगों को क्वारंटीन कर दिया गया है और इसके साथ पूरे परिसर में सफाई और सेनेटाइजेशन की भी प्रक्रिया शुरू हो गई है.