Time capsule in Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू होने में कुछ ही दिन बचे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को विधिवत मंदिर निर्माण की शुरुआत कराएंगे. इस राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण स्थल पर 2000 फीट नीचे टाइम कैप्सूल गड़वाने का फैसला किया है. ताकि भविष्य में हजारों साल बाद इस मंदिर के इतिहास के बारे में अगर कोई अध्ययन करना चाहे तो वह उससे पूरे घटनाचक्र के बारे में जानकारी मिल जाएगी. Also Read - पाकिस्तानी क्रिकेटर ने अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन को लेकर किया ये ट्ववीट, कहा-पूरे विश्व में इसे लेकर...

इस Time capsule में मंदिर के इतिहास और अन्य तथ्य दर्ज होंगे. इस बारे में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा कि ऐसा भविष्य में किसी भी विवाद से बचने के लिए किया जा रहा है. Also Read - राम मंदिर भूमिपूजन पर 'भगवान राम', 'माता सीता' और 'लक्ष्मण' ने ऐसे दी लोगों को बधाई  

चौपाल ने एएनआई से कहा कि टाइम कैप्सूल के जरिए भविष्य में कोई भी व्यक्ति मंदिर के बारे में जानकारी हासिल कर लेगा. Also Read - राम मंदिर का भूमि पूजन करते हुए PM मोदी को देखकर मां हीराबेन हुईं भावुक, हाथ जोड़े देख रहीं थींं TV

चौपाल ने कहा कि राम जन्मभूमि के लिए चले संघर्ष ने मौजूदा और भविष्य की पीढियों को काफी कुछ सिखाया है.

यह टाइम कैप्सूल तांब्रपत्र यानी तांबे से बनी किसी चीज का होगा. उन्होंने आगे कहा कि इस मंदिर के निर्माण के लिए गुरुद्वारों, बौद्ध और जैन मंदिरों सहित देश भर के पवित्र स्थलों से मिट्टी लाई जाएगी.