Time capsule in Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू होने में कुछ ही दिन बचे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को विधिवत मंदिर निर्माण की शुरुआत कराएंगे. इस राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण स्थल पर 2000 फीट नीचे टाइम कैप्सूल गड़वाने का फैसला किया है. ताकि भविष्य में हजारों साल बाद इस मंदिर के इतिहास के बारे में अगर कोई अध्ययन करना चाहे तो वह उससे पूरे घटनाचक्र के बारे में जानकारी मिल जाएगी.Also Read - अफगान लड़की ने PM को भेजा काबुल नदी का जल, CM योगी ने अयोध्या में राम मंदिर स्थल पर चढ़ाया

इस Time capsule में मंदिर के इतिहास और अन्य तथ्य दर्ज होंगे. इस बारे में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा कि ऐसा भविष्य में किसी भी विवाद से बचने के लिए किया जा रहा है. Also Read - गौतम गंभीर की केजरीवाल की अयोध्‍या यात्रा पर तंज- दिल्‍ली के CM राम जन्मभूमि पर पूजा कर अपने पाप धोने का प्रयास कर रहे

चौपाल ने एएनआई से कहा कि टाइम कैप्सूल के जरिए भविष्य में कोई भी व्यक्ति मंदिर के बारे में जानकारी हासिल कर लेगा. Also Read - रामजन्मभूमि की तीर्थयात्रा करने वाले आदिवासियों को देंगे पांच हजार रुपये देगी गुजरात सरकार, पर्यटन मंत्री मोदी ने किया ऐलान

चौपाल ने कहा कि राम जन्मभूमि के लिए चले संघर्ष ने मौजूदा और भविष्य की पीढियों को काफी कुछ सिखाया है.

यह टाइम कैप्सूल तांब्रपत्र यानी तांबे से बनी किसी चीज का होगा. उन्होंने आगे कहा कि इस मंदिर के निर्माण के लिए गुरुद्वारों, बौद्ध और जैन मंदिरों सहित देश भर के पवित्र स्थलों से मिट्टी लाई जाएगी.