लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्‍यनाथ की ओर से इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने की घोषणा के बाद अब फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्‍या करने की मांग संतों ने तेज कर दी है. संतों का कहना है कि रामनगरी का नाम फैजाबाद होने से देश की सांस्कृतिक आस्था को ठेस पहुंच रही है, इसलिए योगी सरकार को फैजाबाद का नाम अयोध्या कर इसका सांस्कृतिक गौरव लौटाना चाहिए. Also Read - बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: आडवाणी, उमा और मुरली मनोहर जोशी के 4 जून को बयान दर्ज करेगी स्पेशल कोर्ट

Also Read - अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भारी मात्रा में लोगों ने की दान, अबतक इतने लोगों ने पैसे किए ट्रांसफर

अब ‘प्रयागराज’ के नाम से जानी जाएगी संगम नगरी इलाहाबाद, योगी कैबिनेट ने लिया फैसला Also Read - ऐसे ही नहीं लिया जाता अयोध्या में श्री राम का नाम, सीता कुंड में जाते ही मिट जाते हैं पाप, जानिए और भी कई बातें

रामजन्‍मभूमि के वरिष्‍ठ न्‍यासी डा. रामविलास वेदांती ने कहा कि दीपोत्‍सव अथवा रामनवमी में फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्‍या करने की घोषणा सूबे के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को करनी चाहिए. उन्‍होंने कहा कि 2019 के पहले राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा, वह फिर कोर्ट के फैसले से हो अथवा आपसी समझौते से किया जाए. वेदांती ने कहा कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से अयोध्‍या के संतों और प्रबुद्ध वर्ग के लोगों ने पहले से ही महत्‍ता को बढ़ाने के लिए फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्‍या करने की मांग की थी. इस पर सीएम योगी ने इसकी सैद्धांतिक सहमति भी जताई और समय आने पर इसकी घोषणा करने का आश्‍वासन भी दिया था.

अयोध्या पहुंच सीएम योगी बोले- जब राम की कृपा होगी तो बनकर रहेगा मंदिर

दीपोत्‍सव में जोरदार तरीके से नाम बदलने की मांग उठाएगा संत समाज

दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास और राम जन्‍मभूमि न्‍यास के अध्‍यक्ष महंत सुरेश दास और रामजन्‍म भूमि न्‍यास के अध्‍यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने भी फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्‍या करने की मांग प्रमुख रूप से की है. वेदांती ने कहा कि दीपोत्‍सव में संत समाज इस मांग को जोरदार तरीके से उठाएगा. ऐसे में पूरी संभावना है कि इस साल की रामनवमी पर फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्‍या कर दिया जाएगा.