अयोध्‍या: अयोध्‍या में अब अपराधी साधु के भेष में नहीं छिप पाएंगे. पुलिस ऐसा होने से रोकने के लिए अब मठ और मंदिरों में रहने वाले साधु और संतों का वेरीफिकेशन कर रही है. पुलिस रजिस्टर भी बना रही है जिसमें साधु संतों का पूरा डिटेल होगा. Also Read - सहारनपुर: स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव Lav Agarwal के भाई की संदिग्ध हालात में मौत

कई ऐसे मामले देखने को मिले हैं जब अपराधी साधु भेष रखकर छिप जाते हैं. ऐसे ही अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस मुहीम चला रही है. अयोध्या पुलिस ने इसे लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है. पुलिस वेरीफिकेशन में साधु और संतों की पूरी डिटेल मांगी जा रही है. इसकी जांच भी की जा रही है. इसमें साधु और संतों का जन्‍म स्‍थान, पहचान, आपराधिक रिकॉर्ड समेत कई अहम जानकारियों जुटाई जा रही हैं. इस रजिस्‍टर के जरिये किसी भी संत की समय रहते पहचान की जा सकती है. संतों का रजिस्टर मेंटेन किया जा रहा है. Also Read - यूपी: पति की शिकायत लेकर जिस सब इंस्पेक्टर से मिली महिला, उसी ने कार में किया रेप, अब...

कई साल से अयोध्या में अपराधी अपराध करने के बाद साधू बन रहकर अपनी अपराधिक गतिविधियों को छिपाते रहे हैं. साथ ही यहां से ही इन गतिविधियों का संचालन भी करते रहे हैं. कई बार बिहार समेत अन्य राज्यों की पुलिस साधू भेषधारी अपराधियों को गिरफ्तार भी कर चुकी है. ऐसी ही आपराधिक गतिविधियों को रोकने के लिए पुलिस ये कदम उठा रही है. Also Read - राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर के लिए दिए 5 लाख रुपए, दान देने वाले पहले भारतीय बने, VHP बोली...