लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में नाबालिग लड़की के साथ कथित छेड़खानी के आरोप में हिरासत में लिए गए गाजीपुर जिले की पुलिस लाइन में तैनात हेड कांस्टेबल ने बुधवार दोपहर जहर पी लिया. पुलिस ने गंभीर हालत में उसे इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में दाखिल कराया.

बांदा शहर कोतवाल अनिल कुमार सिंह ने गुरुवार को बताया कि 2015 तक बांदा कोतवाली में तैनात रहा हेड कांस्टेबल जगदीश सिंह यादव (45) इस समय गाजीपुर जिले की पुलिस लाइन में इसी पद पर तैनात है. उन्होंने कहा कि बांदा में तैनाती के दौरान शहर में किराए पर रह रही एक महिला से उसके संबंध हो गए, महिला उसके तैनाती स्थान में भी बतौर दूसरी पत्नी रहती रही है. पिछले चार अक्टूबर को वह बांदा आया और महिला व उसकी 16 साल की बेटी के साथ शहर के एक होटल में रुका. महिला ने कोतवाली में नौ अक्टूबर को हेड कांस्टेबल के खिलाफ होटल में अपनी बेटी के साथ छेड़खानी व अश्लील हरकत करने का मुकदमा दर्ज कराया.

यूपी के बिजनौर में बैंक के कर्ज से परेशान होकर किसान ने फांसी लगाकर दे दी जान

बांदा ट्रामा सेंटर में भर्ती है कांस्‍टेबल
उन्होंने बताया कि बुधवार को महिला व हेड कांस्टेबल इसी मुकदमे में सुलह-समझौता के लिए कोतवाली आए और यहां सुलझने के बजाए दोनों आपस में उलझ गए, जिसके चलते हेड कांस्टेबल को हिरासत में लेना पड़ा. इसी बीच उसने अपने साथ लाए हेयर डाई पी ली, इसके बाद पुलिस ने उसे इलाज के लिए जिले के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया है. हेड कांस्टेबल का इलाज कर रहे चिकित्सक अभिनव ने बताया कि उसकी हालत स्थिर बनी हुई है. उधर, अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने बताया कि गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हेड कांस्टेबल की हालत अभी नाजुक बनी हुई है और छेड़खानी व पॉक्सो एक्ट के मुकदमे के अलावा जहर पीने के मामले की भी जांच की जा रही है.