लखनऊ: उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने पतंजलि फूडपार्क के मामले में अपना बयान दिया है. उन्होंने बुधवार को कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने इस मुद्दे पर मंगलवार को बाबा रामदेव से बात की. पतंजली फूड पार्क को लेकर जल्द ही कोई निर्णय लिया जाएगा.Also Read - UP: जम्‍मू से छुट्टी पर घर लौटी महिला सैन्‍यकर्मी ने की खुदकुशी, निजी फोटो और वीडियो वायरल होने का जिक्र

Also Read - UP: कोर्ट परिसर में एडवोकेट ने सरेआम दूसरे वकील की गोली मारकर हत्‍या की, सामने आई ये वजह

Also Read - UP: BJP समर्थित बागी सपा विधायक नितिन अग्रवाल बड़े अंतर से यूपी विधानसभा के उपाध्यक्ष चुने गए, CM योगी ने SP पर हमला किया

औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि जो जमीन उन्हें (बाबा रामदेव) आवंटित है, वह पतंजलि आयुर्वेद के नाम पर है लेकिन वे उसे पतंजलि फूड्स के नाम से चाहते थे. इस मामले में एक और एमओयू साइन करने की आवश्यकता नहीं है. कैबिनेट बैठक से पहले ही इस पर निर्णय ले लिया जाएगा. योगी आदित्यनाथ ने अब खुद योग गुरु बाबा रामदेव से बात कर मामले को संभालने का प्रयास किया है. उन्होंने अधिकारियों को कैबिनेट की अगली बैठक में ही इससे जुड़े प्रस्ताव को पेश करने का निर्देश दिया.

ग्रेटर नोएडा से मेगा फूड पार्क का जाना यूपी सरकार के लिए झटका, बाबा रामदेव को मनाने में जुटे सीएम योगी

सरकार ने पतंजलि को भेजा नोटिस

बता दें कि सरकार ने बाबा रामदेव के नेतृत्व वाली पतंजलि के ग्रेटर नोएडा के पास प्रस्तावित मेगा फूड पार्क की सैद्घांतिक अनुमति को रद्द करने के लिए नोटिस भेजा है. अगर कंपनी की तरफ से उचित जवाब नहीं मिलता है तो उसे मिली सैद्घांतिक अनुमति अगले महीने रद्द भी हो सकती है. पतंजलि आयुर्वेद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि इस परियोजना में उत्तर प्रदेश सरकार का अपेक्षित सहयोग नहीं मिल रहा है. इस वजह से उन्होंने इस परियोजना को किसी और राज्य में ले जाने का मन बनाया है. बालकृष्ण का कहना है कि ग्रेटर नोएडा के पास करीब 450 एकड़ में विकसित होने वाली इस परियोजना में करीब 6,000 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित था.