लखनऊ: सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल पुराने मामले बाबरी विध्वंस मामले पर फैसला सुनाया. इस फैसले में कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया. इस फैसले को सुनाने वाले जज का नाम है सुरेंद्र कुमार यादव, सभी आरोपियों को बरी करने के बाद सुरेंद्र कुमार यादव खुद सेवानिवृत हो गए. क्योंकि 30 सितंबर ही सुरेंद्र कुमार यादव के रिटायर होने की तारीख है. आज शाम 5 बजे तक वे अपने कार्यभार से सेवानिवृत हो जाएंगे.Also Read - अयोध्या में बन रही मस्जिद की जमीन पर दो बहनों ने किया मालिकाना हक का दावा, हाईकोर्ट में दायर हुई याचिका

बता दें कि सुरेंद्र कुमार यादव का कार्यकाल पिछले साल ही पूरा हो गया था लेकिन बाबरी विध्वंस मामले पर सुनवाई करने के कारण सुप्रीम कोर्ट ने उनके कार्यकाल को एक साळ तक के लिए बढ़ा दिया था. सुरेंद्र कुमार यादव का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर में हुआ था. वैसे इनका अयोध्या से हमेशा जुड़ाव रहा है. इनकी पहली पोस्टिंग अयोध्या में ही हुई थी. साथ ही आखिरी सुनवाई भी अयोध्या मामले पर ही हुई. Also Read - अयोध्या में मस्जिद के निर्माण में दो धड़ों में बटा AIMPLB, जफरयाब जिलानी बोले- मस्जिद का निर्माण शरियत कानून के खिलाफ

बाबर विध्वंस 1992 की घटना है. इसके दो साल के पहले ही 1990 में सुरेंद्र कुमार यादव ने अपनी सेवा बतौर मुनसिफ देनी शुरू की. सुरेंद्र कुमार यादव अयोध्या में 1993 यानी 3 साल तक रहे. बता दें कि जिस दौरान कारसेवकों द्वारा बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे को ढहाया गया तो उस दौरान सुरेंद्र कुमार यादव बतौर मुनसिफ अयोध्या में ही न्यायिक सेवा दे रहे थे. जिस जगह और जिस मामले से उनकी पहली पोस्टिंग जुड़ी रही उसी मामले पर आज उन्होंने अंतिम फैसला सुनाया और रिटायर हो गए. Also Read - Ayodhya Mosque Photos: 5 एकड़ जमीन में बिना गुंबद के बनेगी भव्य मस्जिद, डिजाइन हुआ जारी, नए साल में इस दिन रखी जाएगी नींव