लखनऊ: अयोध्या में विवादित बाबरी मस्जिद के ढांचे को गिराए जाने के 28 साल पुराने में मामले में आज सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा फैसला सुनाया जाएगा. 6 दिसंबर 1992 में ढहाए गए ढांचे में भाजपा के कई बड़े नेताओं को आरोपी बनाया गया है. इनपर आज विशेष अदालत फैसला सुनाएगी. आज कुल 49 मुकदमों पर फैसला दिया जाएगा. इस बाबत फैसला सुनाए जाने से पहले ही उमा भारती ने कहा है कि न्यायालय द्वारा जो भी सजा मुझे दी जाएगी वह मुझे स्वीकार है. राम मंदिर को लेकर मुझे जो भी सजा मिलेगी मैं स्वीकार करूंगी. Also Read - Hathras Case: हाथरस मामले पर अब होगी सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनाएगा फैसला

उमा भारती ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह चुनाव समिति का सदस्य बनने की इच्छा जाहिर की. उन्होंने लिखा कि 30 सितंबर को विशेष अदालत द्वारा राम मंदिर मामले में फैसला सुनाया जाएगा. न्यायालय का जो भी फैसला होगा वह स्वीकार है. हालांकि फैसले के दौरान विशेष अदालत में उपस्थित होना था, लेकिन स्वास्थ्य कारणों से मैं उपस्थित नहीं हो रही हूं. मुझे राम मंदिर के लिए जो भी सजा मिलेगी मैं तैयार हूं. Also Read - लंदन की अदालत में नीरव मोदी की जमानत याचिका लगातार सातवीं बार खारिज : सीबीआई

वहीं बाबरी विध्वंस मामले में कल्याण सिंह का कहना है कि श्रीराम के लिए हमारी तरफ से जो कुछ हुआ है, मैं अब भी उसे कम समझता हूं. यह करोड़ों हिंदुओं की भावना का सवाल है. मैं हर बलिदान देने के लिए तैयार हूं. बता दें कि बाबरी मस्जिद ढहाने के मामले में मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह उमा भारती व अन्य कई लोगों को आरोपी बनाया गया है. Also Read - थाने में प्यार, इकरार: फिर पुलिस वाली लड़की ने सिपाही प्रेमी को खौफनाक तरीके से मारा, और...