Babri Case Verdict: बाबरी विध्वंस मामलें में 28 साल बाद आज फैसला आएगा. सीबीआई की विशेष अदालत 1992 में बाबरी मस्ज्दि ढहाए जाने के मामले पर आज फैसला सुनाएगी. इस मामले में BJP के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी (LK Advani), मुरली मनोहर जोशी ( MM Joshi), उमा भारती (Uma Bharti) समेत 32 आरोपी हैं. विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश एसके यादव ने 16 सितंबर को इस मामले के सभी 32 आरोपियों को फैसले के दिन अदालत में मौजूद रहने को कहा था. आरोपियों में वरिष्ठ BJP नेता एवं पूर्व उप प्रधानमंत्री आडवाणी, पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के अलावा विनय कटियार और साध्वी रितंभरा शामिल हैं.Also Read - मंत्री रहते हुए मैं गंगा और उसकी मुख्य सहायक नदियों पर पनबिजली परियोजना के खिलाफ थी: उमा भारती

उमा भारती और कल्याण सिंह कोरोना संक्रमण की चपेट में आकर दो अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं. कल्याण सिंह जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, तब ही मस्जिद गिराई गई थी. सिंह पिछले साल सितंबर में इस मामले की सुनवाई में शामिल हुये थे. राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय भी इस मामले के आरोपियों में से एक हैं. Also Read - भोपाल में इन इलाकों के बदल सकते हैं नाम, उमा भारती और सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने उठाई मांग

सुप्रीम कोर्ट ने CBI अदालत को मामले का निपटारा 31 अगस्त तक करने के निर्देश दिए थे, लेकिन गत 22 अगस्त को यह अवधि एक महीने के लिए और बढ़ा कर 30 सितंबर कर दी गई थी. सीबीआई की विशेष अदालत ने इस मामले की रोजाना सुनवाई की थी. केंद्रीय एजेंसी सीबीआई ने इस मामले में 351 गवाह और करीब 600 दस्तावेजी सुबूत अदालत में पेश किए. इस मामले में कुल 48 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था, जिनमें से 17 की मामले की सुनवाई के दौरान मृत्यु हो चुकी है. Also Read - कमलनाथ बहुत ही सभ्‍य, जिस तरह से उपचुनाव लड़ा, वैसे ही सरकार चलाए होते तो नहीं गिरती: उमा भारती

इस मामले में अदालत में पेश हुए सभी अभियुक्तों ने अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों को गलत और बेबुनियाद बताते हुए केंद्र की तत्कालीन कांग्रेस सरकार पर दुर्भावना से मुकदमे दर्ज कराने का आरोप लगाया था. पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने गत 24 जुलाई को सीबीआई अदालत में दर्ज कराए गए बयान में तमाम आरोपों से इनकार करते हुए कहा था कि वह पूरी तरह से निर्दोष निर्दोष हैं और उन्हें राजनीतिक कारणों से इस मामले में घसीटा गया है.

इससे एक दिन पहले अदालत में अपना बयान दर्ज कराने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी ने भी लगभग ऐसा ही बयान देते हुए खुद को निर्दोष बताया था. कल्याण सिंह ने गत 13 जुलाई को सीबीआई अदालत में बयान दर्ज कराते हुए कहा था कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने सियासी बदले की भावना से प्रेरित होकर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. उन्होंने दावा किया था कि उनकी सरकार ने अयोध्या में मस्जिद की त्रिस्तरीय सुरक्षा सुनिश्चित की थी.

आरोपियों की लिस्ट
इस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साघ्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश शर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोष दूबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण शरण सिंह, कमलेश त्रिपाठी, रामचंद्र खत्री, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धमेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़ व धर्मेंद्र सिंह गुर्जर आरोपी हैं.

Live Updates

  • 12:34 PM IST

    साजिश के बारे में कोर्ट ने स्पष्ट किया कि कोई षड्यंत्र नहीं किया गया

  • 12:32 PM IST

    भाजपा के शीर्ष नेता रहे आडवाणी, जोशी के लिए राहत की बात.

  • 12:31 PM IST

    बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट का फैसला आ गया है.

  • 12:31 PM IST

    साक्ष्यों के अभाव में सभी आरोपी बरी.

  • 12:25 PM IST

    Babri Verdict Live Updates: बाबरी विध्वंस पर फैसला- आडवाणी, जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह सहित सभी आरोपी बरी

  • 12:24 PM IST

    सभी आरोपी बरी किए गए- अदालत का फैसला

  • 12:24 PM IST

    आठ आरोपियों को बरी किया गया.

  • 12:24 PM IST

    Babri Verdict Live Updates: बाबरी विध्वंस पर फैसला- लालकृष्ण आडवाणी सहित कई नेता बरी

  • 12:22 PM IST

    कोर्ट रूम में जज फैसला पढ़ रहे हैं.

  • 12:04 PM IST

    आडवाणी, जोशी और कल्याण सिंह सहित छह आरोपी वीडियो कांफ्रेंसिंग से जुड़ रहे हैं.