बदायूं (यूपी): सिविल लाइन थाना क्षेत्र में शुक्रवार को विस्फोट की घटना के बाद नगर मजिस्ट्रेट और पुलिस क्षेत्राधिकारी के नेतृत्व में आतिशबाजी की दुकानों और गोदामों पर शनिवार को छापेमारी की गई. एटीएस की टीम ने घटनास्थल का मुआयना किया है. नगर मजिस्ट्रेट सुनील कुमार ने बताया कि आज उनके और पुलिस क्षेत्राधिकारी नगर राघवेंद्र सिंह राठौर के नेतृत्व में नगर के पटाखों के गोदामों और दुकानों पर छापामारी की गई. बता दें कि यहां एक दिन पहले ही भीषण विस्फोट हुआ था. विस्फोट से बिल्डिंग गिर गई थी. घटना में सात लोगों की मौत हो गई थी. कई घायल हो गए थे.

खाकी का फर्ज और मां की जिम्मेदारी भी: लेडी कांस्टेबल को इस जज्बे के लिए IG, DIG भी कर रहे सलाम

उन्होंने बताया कि तीन गोदाम सील किए गए हैं जिनमें क्षमता एवं अनुमति से अधिक पटाखे पाए गए. नगर मजिस्ट्रेट ने बताया कि तीनों गोदामों के लाइसेंस जिस स्थान के लिए दिए गए हैं, वे उस नियत स्थान पर नहीं बनाये गए हैं. इसके अतिरिक्त इन गोदामों में जो पटाखे प्राप्त हुए हैं, वह लाइसेंस में अंकित क्षमता से बहुत अधिक हैं. उन्होंने बताया की तीनों गोदाम स्वामियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है. साथ ही पटाखों का कारोबार करने वाले अन्य दुकानदारों पर भी ठोस कार्रवाई की जाएगी. उल्लेखनीय है कि सिविल लाइन थाना क्षेत्र के रसूलपुर गांव में शुक्रवार को पटाखा फैक्टरी में विस्फोट से आठ लोगों की जान चली गयी थी. इस बीच आतंकवाद रोधी स्क्वायड एटीएस की टीम ने देर रात और आज सुबह घटनास्थल का निरीक्षण कर विस्फ़ोट के कारणों की जांच की.

एक यूनिट ब्‍लड में पानी मिलाकर बेचते थे दो यूनिट, एसटीएफ ने ऐसे किया खुलासा

एटीएस प्रभारी मनजीत सिंह ने बताया कि हम लोग रात को भी यहां आए थे और आज भी जांच की. घटनास्थल पर आकर यहां की परिस्थितियों का मुआयना किया है ताकि कुछ ऐसे सबूत मिल सकें जिनसे घटना के कारणों की जांच हो पाए. उन्होंने कहा की प्रथम दृष्टया मामला लापरवाही का लग रहा है. घटना की वास्तविकता जिन लोगों से पता लग सकती थी, वे सभी लोग इस दुर्घटना में मारे गए हैं. उन्होंने बताया कि इनके पास 15 किलो विस्फोटक पदार्थ का लाइसेंस था जो बड़े हादसे के लिए पर्याप्त होता है. घटनास्थल के आसपास के ग्रामीणों ने पूछताछ के दौरान बताया है कि ये लोग अक्सर अपने मिलने वालों के साथ बैठकर बीड़ी इत्यादि पिया करते थे. सिंह ने बताया विस्फोटक पर अगर बीड़ी की राख गिर जाए, तब भी बड़ा विस्फोट हो सकता है.