लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में भारत-नेपाल के सीमावर्ती रूपईडीहा इलाके में दहेज की मांग पूरी नहीं करने पर एक विवाहिता को सऊदी अरब में रह रहे उसके पति ने मोबाइल पर ‘तीन तलाक’ दे दिया.

तीन तलाक कानून पर पीएम मोदी की बताया ‘भगवान’ व मुस्लिम औरतों का हितरक्षक, जानें किसने कही ये बात

पुलिस अधीक्षक सभाराज सिंह ने गुरुवार को बताया कि रूपईडीहा क्षेत्र की रहने वाली नूरी (20) ने इस संबंध में थाने में शिकायत दर्ज करायी है. उसने कहा कि एक साल पहले उसकी शादी रूपईडीहा के ही नई बस्ती के रहने वाले चांदबाबू से हुआ था. शादी के एक सप्ताह बाद से उससे दहेज में मोटरसाइकिल और 50 हजार रुपये की मांग की जाने लगी. नूरी ने बताया कि शादी के कुछ माह बाद उसका शौहर काम के सिलसिले में सऊदी अरब चला गया. उसके बाद उसकी सास और ननद दहेज की मांग को लेकर कर उसे प्रताड़ित करने लगीं.

एक बार में तीन तलाक दंडनीय अपराध, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दी मंजूरी

तलाक देकर घर से निकाला
उसने आरोप लगाया कि बीते 10 सितम्बर को नूरी की सास राबिया, ननद मीना ने फिर से दहेज की मांग की. उसी दिन चांदबाबू ने भी मोबाइल फोन पर वही मांग दोहरायी. नूरी के असमर्थता जताने पर चांदबाबू ने उसे फोन पर ही तीन तलाक दे दिया, जिसके बाद उसे घर से निकाल दिया गया. सिंह ने बताया कि बुधवार शाम आरोपी पति, सास और ननद के खिलाफ मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण अध्यादेश (धारा 314), दहेज अधिनियम (धारा तीन एवं चार) और मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. मामले की जांच की जा रही है. (इनपुट एजेंसी)