लखनऊ: यूपी के बहराइच जिले में सरकार की स्वास्थ्य रक्षक सुविधा ही एक परिवार के लिए दुखों का पहाड़ लेकर आई. जिले के रामपुर धोबियाहार गांव में एएनएम ने आशा बहू के साथ ग्रामीणों के घरों में पहुंचकर बच्चों को टीका लगाया. टीका लगने के एक घंटे बाद सभी की तबियत बिगड़ने लगी. देर रात एक मासूम की मौत हो गई. इसके बाद अन्य बच्चों को आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नानपारा पहुंचाकर भर्ती कराया गया. इलाज के बाद अब बच्चे स्वस्थ बताए जा रहे हैं. हालांकि अभी तक बुखार नहीं उतरा है. सूचना पाकर मुख्य चिकित्साधिकारी व डब्ल्यूएचओ की टीम ने गांव पहुंचकर जांच शुरू कर दी है.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

Also Read - UP के छात्रों को अगले महीने से मिलना शुरू होंगे फ्री स्मार्टफोन और टैबलेट, योगी सरकार देने जा रही बड़ी सौगात

बहराइच जिले के नानपारा तहसील अंतर्गत रामपुर धोबियाहार गांव में एएनएम सोनम गुप्ता की तैनाती है. बुधवार शाम को एएनएम सोनम गांव की आशा सुनीता के साथ बच्चों के टीकाकरण के लिए निकलीं. उन्होंने नौ परिवारों के बच्चों का टीकाकरण किया. शाम चार बजे टीके लगाए, लेकिन एक घंटे बाद बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी. परिवार के लोगों ने समझा कि कुछ देर बाद तबीयत ठीक हो जाएगी, लेकिन रात में बच्चों की हालत नाजुक हो गई. परिवारीजनों ने एएनएम को फोन कर सूचना दी तो एएनएम ने टीका लगने के बाद मामूली तबियत खराब होने की बात कहकर किनारा कर लिया.

योगी सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोप में गोंडा और फतेहपुर के डीएम को किया सस्‍पेंड

देर रात दो साल की मासूम ने तोड़ा दम

परिवारीजन बच्चे की तबियत ठीक होने का इंतजार करते रहे. तभी देर रात रुखसाना उर्फ हिना (दो माह) पुत्री मोहम्मद अहमद ने दम तोड़ दिया. बच्ची की मौत की सूचना गांव के अन्य लोगों को मिली तो सभी दहशत में आ गए. आनन-फानन में रात में ही एंबुलेंस को बुलवाकर बच्चों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नानपारा पहुंचाया गया. यहां पर सभी बच्चों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है. घटना की सूचना पाकर गुरुवार सुबह मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. अरुण कुमार पांडेय व डब्ल्यूएचओ की टीम गांव पहुंची है.