बलिया: उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने शनिवार को कहा कि लोकसभा के आगामी चुनाव में भाजपा की पराजय होनी तय है. राजभर ने जिले के रसड़ा कस्बे में स्थित अपने आवास पर कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति कानून को लेकर उच्चतम न्यायालय का फैसला पलट दिया. इसके अलावा उसने कई अन्य विवादास्पद कदम भी उठाए हैं.Also Read - प्रशांत किशोर ने कहा- BJP दशकों तक मजबूत रहेगी, नरेंद्र मोदी की ताकत समझें राहुल गांधी

Also Read - Co-operative Banks in UP: साठ लाख से अधिक किसानों का सहारा बने सहकारी बैंक, लिया 22,307 करोड़ का लोन

CM योगी के अपने ही बने ‘विपक्ष’, कैबिनेट मंत्री ने कहा- रुपए लेकर हो रहे एनकाउंटर, UP में जुर्म का शासन Also Read - यूपी: BJP विधायक के साथ रहने वाले शख्स ने खुद को गोली मारी, स्कूल में ही मौत

बीजेपी सरकार में ही कैबिनेट मंत्री राजभर ने कहा कि अगर भाजपा सरकार की ऐसी ही कार्यपद्धति रही तो इस पार्टी की आगामी लोकसभा चुनाव में हार निश्चित है. गोरखपुर, फूलपुर और कैराना लोकसभा उपचुनाव से इसका आगाज हो चुका है. भाजपा जब एससी/एसटी एक्ट को लेकर सीमा लांघेगी और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को रिहा करेगी तो ‘लंका दहन’ होना तय है.

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा से गठबंधन तोड़ सकती है यूपी की यह पार्टी

राजभर ने कहा कि अधिकारी वर्ग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशों का पालन नहीं कर रहा है. जनता की शिकायतों का भी सही तरीके से निस्तारण नहीं हो रहा है. नौकरशाह शिकायत के निस्तारण की केवल खानापूर्ति कर रहे हैं. सूबे में कानून व्यवस्था को लेकर पूछे गये सवाल पर उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न खड़े किये और कहा कि पुलिस मुठभेड़ के बहुत से दावे फर्जी हैं. पुलिस गरीब लोगों को उसके घर या दुकान से उठाती है, उनका दो बार चालान करती है, फिर मुठभेड़ में मार डालती है.