बलिया: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह यहां बैरिया क्षेत्र से अपनी पार्टी के विधायक सुरेंद्र सिंह पर फूल बरसाते कैमरे में कैद हो गये और उनका यह वीडियो शनिवार को वायरल किया गया. यहां के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में उचित मूल्य की दुकान के आवंटन में हुई गोलीबारी की घटना में मुख्य आरोपी के समर्थन में बयान देने के लिए विधायक सिंह को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने गत रविवार को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. Also Read - जश्‍न में फायरिंग: लोक गायक व एक्‍टर गोलू राजा को सीने में लगी गोली, BJP नेता पर केस दर्ज

सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हुआ है, वह बलिया जिले के सिकंदरपुर क्षेत्र के कठौड़ा गांव का है, जहां भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष ने शुक्रवार को कृष्ण मंदिर के एक ‘भूमि पूजन’ कार्यक्रम में भाग लिया था, जिसमें दोनों नेता साथ-साथ बैठे दिख रहे हैं. वायरल वीडियो में फूल बरसाने से प्रफुल्लित भाजपा विधायक सिंह प्रदेश अध्‍यक्ष को प्रणाम करते दिख रहे हैं. भाजपा के क्षेत्रीय सांसद रवींद्र कुशवाहा भी इस कार्यक्रम में मौजूद थे. Also Read - योगी सरकार के मंत्री बोले- पाकिस्तान और चीन से युद्ध कब होना है, ये पीएम मोदी ने तय कर लिया है

विधायक पर फूल बरसाने के मसले पर पूछे जाने पर सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र से सांसद कुशवाहा ने स्‍वीकार किया कि प्रदेश अध्‍यक्ष और भाजपा विधायक एक साथ मंच पर बैठे थे. हालांकि प्रदेश अध्‍यक्ष द्वारा पुष्‍प वर्षा किये जाने के सवाल पर सांसद ने कहा कि इसका सही जवाब तो प्रदेश अध्‍यक्ष ही दे सकते हैं. उन्‍होंने साथ ही कहा कि भाजपा विधायक का मसला प्रदेश नेतृत्‍व के संज्ञान में है और पार्टी नेतृत्‍व को ही इस पर निर्णय लेना है. Also Read - बलिया के विधायक पर फूल बरसाने के मामले में यूपी BJP अध्यक्ष की सफाई, कही यह बात...

गत रविवार को भाजपा की राज्‍य इकाई ने सुरेंद्र सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी किया था, जिसमें हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार किये गये एक स्‍थानीय भाजपा नेता धीरेंद्र प्रताप सिंह के समर्थन में उनके लगातार बयान देने पर एक सप्‍ताह में जवाब मांगा गया है. गौरतलब है कि रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में गत 15 अक्‍टूबर को उचित मूल्‍य की दुकान के आवंटन में विवाद के बाद दुर्जनपुर गांव के ही 46 वर्षीय एक व्यक्ति जय प्रकाश पाल गामा की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी. इसमें धीरेंद्र प्रताप सिंह मुख्‍य आरोपी हैं.

इस मामले में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने भाजपा सरकार पर सवाल उठाये थे. यहां तक कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने भी प्रदेश अध्‍यक्ष से फोन पर मामले की जानकारी मांगी थी. नोटिस देने के बावजूद विधायक सुरेंद्र सिंह के रुख में कोई बदलाव नहीं आया. सिंह ने 22 अक्टूबर को अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए दावा किया था कि जय प्रकाश पाल गामा अपराधी था और उसके विरुद्ध ट्रेन डकैती समेत चार मुकदमे दर्ज थे.

भाजपा विधायक ने हाल में दावा किया था कि पिछले दिनों भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से उनकी मुलाकात हुई है और सभी ने उनका समर्थन किया है.