बांदा: उत्तर प्रदेश के बांदा जिले की तिंदवारी सीट से विधायक ब्रजेश कुमार प्रजापति ने जिले में तैनात पुलिस अधीक्षक शालिनी पर हत्या की साजिश का आरोप लगाया है. विधायक का आरोप है कि बालू माफियाओं से साठगांठ करके एसपी उनकी हत्या करना चाहती हैं. उन्होंने लिखा कि एसपी मेरा एक्सीडेंट कराकर या गोली मारकर उनकी करा देना चाहती हैं. उन्होंने इसे लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ को भी पत्र लिखा है. Also Read - कृषि विधेयकों पर संग्राम: कांग्रेस ने कहा किसानों के लिए ‘डेथ वारंट’, भाजपा ने लगाया गुमराह करने का आरोप

विधायक ने इसे लेकर ‘फेसबुक’ अकाउंट पर पोस्ट डाली, जिसमें उन्होंने एसपी शालिनी पर अवैध बालू खनन कराने और बालू माफियाओं को उकसा कर दो बार सड़क दुर्घटना करवा कर खुद की हत्या करवाने की नाकाम कोशिश करने का भी आरोप लगाया है. विधायक ने सोशल मीडिया में अपनी इस पोस्ट के साथ गत दो फरवरी को अपने लेटर पैड पर पुलिस अधीक्षक के खिलाफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे गये पुराने शिकायती पत्र को भी पोस्ट किया है. विधायक प्रजापति ने अपनी फेसबुक पोस्ट में कहा ‘‘लम्बे समय से पुलिस अधीक्षक बांदा शालिनी मेरी हत्या की साजिश रच रही हैं. गोली मारने के साथ वो एक्सीडेंट में भी मेरी हत्या करा देना चाहती थीं. दो बार एक्सीडेंट की कोशिश की, पर असफल हुईं. मेरे साथ कभी भी कुछ भी हो सकता हैं और उसकी जिम्मेदार पुलिस अधीक्षक शालिनी और उनके चहेते बालू माफिया होंगे.’ Also Read - यह 'नो-डेटा' सरकार है, पीएम की लोकप्रियता अब पहले जैसी नहीं रही: कांग्रेस

Also Read - बिहार चुनाव से पहले पुलिस मुख्यालय का अजीबोगरीब फरमान जारी, मचा सियासी बवाल

उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस अधीक्षक जिले की प्रत्येक खदान से 10 लाख रुपये प्रतिमाह वसूली करती हैं, थानाध्यक्षों की नियुक्ति में कम से कम पांच लाख रुपये रिश्वत लेती हैं. हर थाना क्षेत्र में पुलिस अधीक्षक की सहमति से अवैध खनन हो रहा है. अगर उपजिलाधिकारी या तहसीलदार रात में अवैध खनन की जांच करने जाते हैं तो पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर सम्बन्धित थाने के पुलिसकर्मी बालू माफिया को पहले ही बता देते हैं, जिससे वे बच जाते हैं. इस बीच, पुलिस अधीक्षक शालिनी से आज जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.