लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पुलिस भले ही गलत हरकत के लिए ‘बदनाम’ रही हो, लेकिन बांदा जिले की पुलिस अधीक्षक शालिनी लगातार पुलिस की गैर सामाजिक छवि सुधारने की कोशिश में लगी हैं. अवसाद ग्रस्त किसान या आम नागरिक आत्महत्या न करें, इसके लिए एसपी ने ‘लव यू लाइफ’ नामक एक कार्यक्रम शुरू करने की पहल की है. इस कार्यक्रम में मनोरंजन, खान-पान, नुक्कड़ नाटक, मैराथन और योगा के जरिए लोगों को आध्यात्मिक ज्ञान देकर जिंदगी कितनी अमूल्य है? यह पाठ पढ़ाया जाएगा.Also Read - कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन आज, UP के 9वें हवाई अड्डा से जुड़ी अहम बातें

Also Read - UP में प्र‍ियंका गांधी को डबल झटका, उनके सलाहकार और PCC उपाध्‍यक्ष ने दिया कांग्रेस से इस्‍तीफा

दैवीय आपदा और सूखे का दंश झेल रहे बुंदेलखंड के किसान ‘कर्ज’ और ‘मर्ज’ से त्रस्त होकर आए दिन आत्महत्या जैसा कदम उठा रहे हैं. अब तक पुलिस सिर्फ शवों के पोस्टमॉर्टम के लिए पंचनामा भरती रही है, लेकिन यहां की पुलिस अधीक्षक शालिनी अन्य आईपीएस अधिकारियों की सोंच से अलग खुद की पहचान एक सामाजिक कार्यकर्ता की बनाए हुए हैं. शालिनी इसके पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘मन की बात’ की तर्ज पर ‘महिलाओं और छात्राओं के मन की बात’ कार्यक्रम के साथ उनकी ‘सहेली’ बनकर उभरी थीं, और अब उन्होंने अवसाद ग्रस्त लोगों का अकेलापन दूर करने के लिए एक अनूठा कार्यक्रम शुरू करने की ठानी है, जिसका नाम है ‘लव यू लाइफ’. Also Read - NRI के अकाउंट से बड़ी रकम उड़ाने की कोशिश, HDFC के तीन बैंककर्मियों समेत 12 लोग अरेस्‍ट

मंत्रालय के समक्ष आत्महत्या का कोशिश करने वाले किसान की मौत

आत्‍महत्‍या रोकने के लिए की पहल

पुलिस अधीक्षक शालिनी ने बताया कि आत्महत्या करने वाले लोग ज्यादातर अकेलापन महसूस करते हैं. जब उन्हें ऐसा महसूस होता है कि उनकी कोई नहीं सुनता, तभी वह आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं. उन्होंने कहा, कि अब बांदा पुलिस ऐसे लोगों के बीच ‘लव यू लाइफ’ कार्यक्रम के जरिए मनोरंजन, खान-पान, नुक्कड़ नाटक, मैराथन और योगा के माध्यम से अध्यात्मिक ज्ञान देकर जिंदगी कितनी कीमती है? यह बता कर आत्महत्या रोकने की कोशिश करेगी.

महाराष्ट्रः मराठवाड़ा में पिछले 7 माह में 580 किसानों ने की आत्महत्या

क्राइम कंट्रोल के साथ समाजिक कार्य

पब्लिक एक्शन कमेटी (पीएसी) की प्रमुख श्वेता मिश्रा ने एसपी के इस कदम की सराहना की है और कहा कि अभी तक कोई भी पुलिस अधिकारी सिर्फ ‘क्राइम कंट्रोल’ की बात करता रहा है, लेकिन शालिनी पुलिस अधिकारी कम, सामाजिक कार्यकर्ता ज्यादा हैं. इसके लिए उनका संगठन सार्वजनिक तौर पर उन्हें सम्मानित करने की योजना बना रहा है.