बांदा: उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में शुक्रवार को सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों की कवरेज कर रहे पत्रकारों से मारपीट की. पत्रकारों की शिकायत पर कमिश्नर ने घटना को गंभीरता से लेते हुए डीएम से जांच रिपोर्ट मांगी है. पत्रकारों को भरोसा दिलाया कि आरोपी के खिलाफ कार्रवाई के लिए वो शासन को पत्र लिखेंगे.

शिवपाल बोले- हमारे ऊपर है मुलायम सिंह का आशीर्वाद, नहीं करेंगे भाजपा से कोई समझौता

यह घटना शुक्रवार दोपहर की है, जब बबेरू क्षेत्र के भदेहदू गांव के कुछ ग्रामीण भ्रष्टाचार के खिलाफ जिला मुख्यालय के कचेहरी स्थित अशोक लॉट तिराहे पर प्रदर्शन कर रहे थे. जिला प्रशासन ने सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार को ग्रामीणों का ज्ञापन लेने भेजा. इसी दौरान समाचार कवरेज कर रहे कुछ पत्रकारों ने जब ग्रामीणों के प्रदर्शन से जुड़े सवाल सिटी मजिस्ट्रेट से पूछने शुरू किए तो वो बौखला गए और मार-पीट पर उतर आए. सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा की गई मार-पीट में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कुछ पत्रकार घायल हो गए हैं.

उपराष्ट्रपति आज आईआईआईटी इलाहाबाद में सीसीएफ को करेंगे राष्ट्र को समर्पित

शासन को पत्र लिखेंगे

इस घटना को गंभीरता से लेते हुए आयुक्त (कमिश्नर) शरद कुमार सिंह ने कहा कि इस तरह की घटना गलत है, वह सिटी मजिस्ट्रेट के खिलाफ शासन को पत्र लिखेंगे और फिलहाल जिलाधिकारी से जांच रिपोर्ट मांगी गई है. सिटी मजिस्ट्रेट ने मारपीट की घटना से इनकार करते हुए कहा, पत्रकारों ने कुछ सवाल पूछना चाहा था, उन्होंने सिर्फ इतना कहा है कि इस बारे में जिलाधिकारी से पूछें.

गवर्नर से करेंगे कार्रवाई की मांग

बहरहाल इस घटना से पत्रकारों में आक्रोश है और सिटी मजिस्ट्रेट के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग पर अड़े हैं. जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष रूद्रेश घिल्डियाल और महासचिव रामलाल जयन ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जारी बयान में कहा, बांदा में पत्रकारों के साथ हुई मारपीट के मामले में शनिवार को संगठन का एक प्रतिनिधिमंडल प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक से मिलकर न्याय संगत कार्रवाई की मांग करेगा.